Home उत्तराखंड अजय की जान बचाने के लिए आरिफ ने तोड़ दिया रोज़ा

अजय की जान बचाने के लिए आरिफ ने तोड़ दिया रोज़ा

422
SHARE
सांकेतिक फोटो

देहरादून- रमजानो के इस पवित्र महीने में मुस्लिम समुदाय पूरे महीने रोज़े रखकर खुदा की इबादत में मशगूल रहता है तथा भलाई कार्य करना उसके लिए सबसे अहम् होता है. काफी लोग के मुंह यह बातें सुनने में आती है लेकिन विरले ही होते है तो इंसानियत को तरजीह देते है. ऐसे लोगो के लिए आरिफ एक मिसाल बनकर सामने आये. जिन्होंने एक व्यक्ति की जान बचाने के लिए ना सिर्फ अपना रोज़ा तोडा बल्कि आईसीयू में एडमिट मरीज को ब्लड भी डोनेट किया.

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के एक शक्स ने रमजान में रोजा तोड़कर एक जरूरतमंद की जान बचाई। नैशनल एसोसिएशन फॉर पैरेंट्स एंड स्टूडेंट्स राइट्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरिफ खान ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए रक्त की कमी के चलते मौत से जूझ रहे एक मरीज को अपना रक्त दान कर जान बचाई।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आरिफ ने बताया कि आम दिनों की तरह वे शनिवार को अपने काम में व्यस्त थे। इसी दौरान व्हाट्सएप पर उन्हें संदेश मिला कि किसी अजय बिजल्वाण पुत्र खीमानंद बिजल्वाण जो कि मैक्स हॉस्पिटल देहरादून में आईसीयू (2) में एडमिट है, जिसकी प्लेटलेट 5000 से कम हो गई हैं। मरीज का ब्लड ग्रुप ‘ए+’ है। संदेश में यह भी लिखा था कि यदि शनिवार शाम पांच तक रक्त नहीं दिया गया तो उसकी जान को खतरा हो सकता है। इन दिनों चल रहे माहे रमजान के महीने के चलते आरिफ रोजेदार होने के बावजूद मैक्स हॉस्पिटल में सम्पर्क करके अपने रोजे से होने की बाबत जानकारी दी। हॉस्पिटल ने बताया कि यदि आप अपना रोजा तोड़ दें तो आप रक्त देकर मरीज की जान बचा सकते हैं।

मैक्स हॉस्पिटल देहरादून

आरिफ खान ने बिना विलम्ब किए रक्त देने की हामी भर दी। आरिफ ने बताया कि यदि एक रोजा तोड़ने से किसी की जान बच सकती है, तो पहले मानवधर्म निभाना उनके लिए सर्वोपरी है। आरिफ ने तुरंत हॉस्पिटल पहुंचकर जरूरतमंद को अपना रक्त देकर उसकी जान बचाई।

आरिफ ने बताया कि मरीज को रक्त देने के बाद अब वह डॉक्टरों की देखरेख में है। उन्होंने कहा कि रक्त, रक्त होता है फिर चाहे वह किसी भी धर्म, जाति, सम्प्रदाय के व्यक्ति का हो या फिर किसी अमीर या गरीब का क्यों न हो। रक्त सभी का एक समान होता है, उसमें किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं होता है।

Loading...