चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी में फिलॉस्फी के छात्रों को पढ़ाए जाएंगे योगी और रामदेव के विचार

एलोपेथी और मेडिकल साइंस को को’रोना की बीमारी से निपटने में विफल करार देने वाले बाबा रामदेव और आईएमए के बीच अभी विवाद सुलझा की नहीं मेरठ की चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी ने फिलॉस्फी के छात्रों को सीएम योगी आदित्यनाथ और रामदेव के विचारों को पढ़ाने का फैसला किया है।

दरअसल, यूनिवर्सिटी के बोर्ड ऑफ स्टडीज ने नए पाठ्यक्रम को मंजूरी दी है। जिसमे यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, बाबा रामदेव, बशीर बद्र, कुंवर बेचैन, जग्गी वासुदेव के विचारों है। नए पाठ्यक्रम में योगी आदित्यनाथ की लिखी पुस्तक हठयोग को शामिल किया गया है। योगी की लिखी इस किताब को गोरखनाथ ट्रस्ट ने छापी है।

वहीं योगगुरु बाबा रामदेव की योग साधना एवं योग चिकित्सा रहस्य पुस्तक को भी पाठ्यक्रम में शामिल किया है। इस पुस्तक को बीए में पढ़ाया जाएगा। बीए दर्शनशास्त्र में योग प्रैक्टिकल और थ्योरी दोनों की पढ़ाई होगी।

यूनिवर्सिटी के कन्वीनर डॉ. डीएन सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के सत्र 2021-22 के लिए हुई बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक में नए पाठयक्रम को मंजूरी दी गई। उन्होने कहा कि भारत तकरीबन सभी क्षेत्रों में लंबे समय से समृद्ध रहा है। अपनी मौजूदा व आने वाली पीढ़ी को इसके बारे में बताने के लिए ही सारी कवायद की जा रही है। इससे छात्रों को हर तरह से फायदा होगा।

इसके अलावा बीएससी के कोर्स में भारतीय गणितज्ञों आर्यभट्ट, भास्कराचार्य, लीलावती, रामानुजन, माधवाचार्य, स्वामी कृष्णतीर्थ के योगदान को भी पढ़ाया जाएगा।