Home उत्तर प्रदेश आंबेडकर जयंती पर भी तोड़ी गई बाबा साहेब की मूर्तियां, तालों में...

आंबेडकर जयंती पर भी तोड़ी गई बाबा साहेब की मूर्तियां, तालों में की गई कैद

87
SHARE

पूरा देश आज संविधान निर्माता बाबा साहेब आंबेडकर की 127 वी जयंती मना रहा है. दुसरी और उनके विरोधी उनकी मूर्तियाँ तोड़ रहे है. जिसका नजारा यूपी के कई हिस्सों में देखने को मिला है.

शुक्रवार देर रात को सीतापुर जिले में बाबा साहब भीमराव आंबेडकर की एक प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया. जिसके बाद पुलिस ने तत्काल प्रतिमा को ठीक कराते हुए इसकी पुनर्स्थापना कराई है. घटना शहर कोतवाली इलाके के अकोइया गांव की है. पुलिस अब मूर्ति तोड़ने वालों की तलाश कर रही है.

ग्रेटर नोएडा के ग्रेनो वेस्ट स्थित रिक्षपाल गढ़ी गांव में लगी डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को शुक्रवार सुबह किसी ने खंडित कर दिया, जबकि इसकी सुरक्षा के लिए दो पुलिसकर्मी भी तैनात थे.  इस घटना के बाद गांव में फैले तनाव के बीच आनन-फानन में प्रशासन ने अलीगढ़ से पीतल की नई प्रतिमा लाकर स्थापित किया.
Badaun: BR Ambedkar's statue locked inside an iron cage, police personnel deputed for protection
ग्रेनो वेस्ट के बिसरख कोतवाली एरिया में रिक्षपाल गढ़ी गांव में अंदर ही डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा लगी हुई है. आंबेडकर जयंती के मद्देनजर बिसरख कोतवाली के एसएचओ ने 9 अप्रैल को ग्रामीणों के साथ मीटिंग की थी. इसके बाद प्रतिमा की सुरक्षा के लिए दो पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए थे. गुरुवार को भी पुलिसकर्मी ड्यूटी पर आए थे और शुक्रवार तड़के करीब 3 बजे थाने चले गए. इसके बाद ही किसी शरारती तत्व ने प्रतिमा को खंडित कर दिया.
इसके अलावा बदायूं शहर के बीचों बीच एक चौराहे के निकट लगी बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की एक मूर्ति को लोहे की सलाखों में बंद कर ताला लगा दिया गया है. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को लोहे के मजबूत जाल में बंद करने की यह घटना सदर कोतवाली क्षेत्र में स्थित गद्दी चौक की है. यहां लगी मूर्ति को न सिर्फ लोहे के जाल में बंद कर दिया गया है बल्कि, ताला भी लगा दिया गया है. इसके साथ ही यहां पुलिस की ओर से ड्यूटी भी लगी हुई है. तीन होमगार्ड प्रतिमा की 24 घंटे सुरक्षा करते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...