Home उत्तर प्रदेश वक्फ़ बोर्ड ने SC में लगाई अर्ज़ी, कहा चाँद-सितारे वाले हरे झंडे...

वक्फ़ बोर्ड ने SC में लगाई अर्ज़ी, कहा चाँद-सितारे वाले हरे झंडे पर लगे रोक

192
SHARE

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में चाँद-सितारे वाले झंडे के खिलाफ अर्जी लगाई है. वसीम रिज़वी चाहते हैं कि मुस्लिम धर्मावलंबियों के चांद-सितारे वाले इस्लामिक झंडे पर रोक लगाने की मांग की है. उन्होंने बकायदा इसके लिए सुप्रीम कोर्ट में अर्जी भी दाखिल की है.  सुप्रीम कोर्ट में रिजवी ने अपनी अर्जी में कहा है कि इस झंडे का इस्लाम से कोई संबंध नहीं हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रिज़वी के कहा कि इस तरह के चाँद-सितारे वाले झंडों का इस्लाम से कोई लेना देना नहीं इसलिए इन झंडों पर रोक लगनी चाहए. उन्होंने कहा है कि इसकी वजह से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो जाता है. वसीम रिजवी ने कहा है कि यह झंडा पाकिस्तान और जिन्ना की मुस्लिम लीग के झंडे से मिलता है. मुस्लिम इलाकों में इसे फहराये जाने पर सांप्रदायिक तनाव पैदा होता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वक्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने रोक लगाने की मांग को लेकर एक तर्क भी दिया है. रिज़वी ने यह भी तर्क दिया है कि इस झंडे का इस्लाम धर्म से कोई लेना-देना नहीं है. तो फिर इनका इस्तेमाल क्यों किया जा रहा है.

वसीम रिज़वी ने आगे कहा है कि पैगंबर मोहम्मद (स.अ.व) के वक़्त सफेद या काले रंग का झंडा इस्तेमाल किया जाता था. रिजवी के मुताबिक इस झंडे का इस्तेमाल जिन्ना व अन्य ने शुरू किया था। रिजवी ने कहा कि 1906 में मुस्लिम लीग ने इस फ्लैग को बनाया था. इस्लाम में इस तरह के किसी भी झंडे की कोई मान्यता नहीं है.

Loading...