सीएम योगी ने किया चीनी मिलों में सल्फर मुक्त प्लांट का लोकार्पण

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गन्ना किसानों को मुंडेरवा और पिपराइच चीनी मिल की बड़ी सौगात दी। सीएम योगी के द्वारा सल्फरमुक्त चीनी मिल का लोकार्पण पूर्वांचल के गन्ना किसानों के लिए इसे बड़ी सौगात माना जा रहा है।

सीएम ने कहा कि पुरानी चीनी मिलें साल में जहां 12 लाख कुन्तल गन्ना पेराई करती थीं वहीं अब चीनी मिलें चार गुना पेराई कर रही हैं। 119 चीनी मिलों को इस साल 119 हजार करोड़ खर्च कर चलाया जा रहा है। मुंडेरवा और पिपराइच शासन से प्राप्त वित्तीय सहायता वाली पहली चीनी मिलें हैं जहां सल्फरमुक्त प्लांट की स्थापना की गई है।

विपक्ष पर निशाना साधते हुए सीएम योगी ने कहा कि पिछली सरकारों ने साजिश के तहत 21 चीनी मिलें बेचीं। जब हमारी सरकार बनी तो हमने पिपराइच और मुंडेरवा में नई चीनी मिलें खोलीं। नई मिलों में चार गुना अधिक गन्ने से चीनी का उत्पादन होगा।

प्रदेश के गन्ना मंत्री सुरेश राणा कहते हैं कि सल्फरलेस चीनी के उत्पादन से गन्ना किसानों को लाभ तो मिलेगा ही, इसके साथ ही 10 हजार युवाओं को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार भी मिलेगा।

बता दें कि बाजार में तीन तरह की चीनी बिकती है। सफेद, ब्राउन और सल्फरलेस। सामान्य तौर पर चीनी ब्राउन कलर की बनती है। इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम और आयरन भी होता है। उसे सफेद और महीन बनाने के लिए सल्फर मिला दिया जाता है। सल्फर युक्त चीनी में कैलोरी की मात्रा ज्यादा होती है। इससे सांस की दिक्कत भी हो सकती है। बिना सल्फर मिलाए ही चीनी को रिफाइंड करके जो चीनी तैयार होती है, वह स्वास्थ्य के लिए बेहतर होती है।