मुस्लिमों के खिलाफ की थी आपत्तिजनक टिप्पणी, आरती लाल चंदानी को मिला अब गनर

मुस्लिमों के खिलाफ इस्लामोंफोबिक टिप्पणी करने के मामले में उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित जीएसवीएम मेडिकल काॅलेज की प्राचार्य डॉ. आरती लालचंदानी को चौतरफा आलोचना झेल रही है। उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई गई है। इसी बीच अब उन्हे गनर मुहैया कराया है।

बता दें कि कुछ दिनों पहले प्राचार्य का एक Video सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। जिसमे उन्होने कथित तौर पर अस्पताल में इलाज कराने आए तब्लीगी जमात के सदस्यों को आ’तंकी बताया था। और कहा था कि इन लोगों को  जेल भेजा जाना चाहिए, लेकिन उन्हें वीआईपी ट्रीटमेंट के लिए हॉस्पिटल भेजा जा रहा है। जिन्हें जंगल में छोड़ना चाहिए वे यहां हैं। इससे अस्पताल के संसाधन और मैनपावर सभी का नुकसान हो रहा है। डॉ. लालचंदानी एक जगह कहती हैं कि सरकार की यूपी सरकार खुशामदी के लिए इन्हें अस्पताल में भर्ती करवा रही है, जबकि इनके साथ सख्ती बरती जानी चाहिए।

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के एक वकील ने कानपुर पुलिस में शिकायत दर्ज भी करवाई है। इसी बीच अब लालचंदानी ने डीआईजी अनंत देव तिवारी को प्रार्थना पत्र दिया है, जिसमें उन्हें ब्लैकमेल (Blackmail) करने वाले तथाकथित पत्रकारों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। साथ ही उन्होंने अपनी जान को खतरा बताते हुए गनर (Gunner) की मांग की है।

इस पूरे मामले पर पुलिस उपमहानिरीक्षक ने प्राचार्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गनर मुहैया कराया है। पुलिस उपमहानिरीक्षक अनंत देव ने बताया चूंकि प्राचार्य का एक को वीडियो वायरल हुआ है और जब तक जांच पूरी नहीं हो जाती, एक अंगरक्षक उनके साथ सुरक्षा हेतु रहेगा। उन्होंने कहा कि जहां तक बात प्राचार्य के आरोप की है कि कोई उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है। इस मामले में जांच क्षेत्राधिकारी स्वरूपनगर को दी गई है। जांच रिपोर्ट आने के उपरांत आगे की कार्रवाई की जाएगी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE