अलवर हत्याकांड: अकबर की आखिरी फोटो आई सामने, गौरक्षक ने की जारी

राजस्थान के अलवर में कथित तौर पर गौरक्षकों के हाथों मारे गए अकबर उर्फ रकबर खान के मामले में एक और बड़ा खुलासा हुआ है। विश्व हिंदू परिषद (VHP) नेता और  गौरक्षक नवल किशोर ने अकबर की फोटो आखिरी फोटो जारी की है।

नवल किशोर ने दावा किया कि ये तस्वीर उस वक्त ली गई थी। जब पुलिस रकबर को ले जा रही थी। फोटो में रकबर की आंखें बंद हैं। चेहरे पर बाईं तरफ कुछ चोट के निशान भी देखे जा सकते हैं। हालांकि नवल किशोर का दावा है कि उस वक्त वह जिंदा था। दूसरी और सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि पुलिस 3.47 तक उसे सड़क पर घुमा रही थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार, रकबर की मौत पिटाई के चलते अंदरूनी ख़ून बहने से हुई है।

वहीं रकबर के साथी असलम ने पुलिस को बयान दिया कि पांच आदमी मिले थे जो आपस में नाम ले रहे थे। सुरेश, विजय, परमजीत, नरेश, धर्मेंद्र कहकर पुकार रहे थे। मुझे पकड़ लिया और रकबर को खेत में गिरा दिया। रकबर के साथ खेत में लाठी-डंडे से मारपीट शुरू की। वो लोग कह रहे थे हमारे साथ एमएलए साहब हैं और हमारा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। इसमें आग लगा दो।

इसी बीच रकबर के पिता ने न्याय की मांग करते हुए दावा किया कि रकबर के पास गाय की जगह बकरियां थीं और पुलिस की लापरवाही की वजह से उसकी मौत हो गई।  उन्होंने कहा कि मेरा बेटा गोतस्कर नहीं है। हम रोजगार के लिए बकरियां पालते हैं और उन्हें बेचते हैं। जिस वक्त ये घटना हुआ उस वक्त भी मेरा बेटा बकरियां ले जा रहा था। उन्होंने आगे कहा कि सरकार से हमें उम्मीद हैं कि हमें इंसाफ मिले।

बता दें कि राजस्थान सरकार ने संबंधित पुलिस थाने के सहायक उप पुलिस निरीक्षक मोहन सिंह को निलंबित कर दिया है। साथ ही थाने के चार सिपाहियों को लाइन हाज़िर किया गया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE