सुब्रमण्यम स्वामी ज्ञानव्यापी मस्जिद को लेकर पीएम मोदी से करेंगे मुलाक़ात

अर्थव्यवस्था, सीमा पर चीनी घुसपेठ, कोरोन से निपटने में मोदी सरकार पर नाकाम रहने का आरोप लगाने वाले राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि वह जल्द ही पीएम मोदी से मुलाक़ात करेंगे। स्वामी ने कहा कि कोरोना संकट के खत्म होते ही वो काशी जाएंगे और ज्ञानव्यापी के मामले को देखेंगे।

उन्होंने कहा कि मैं इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री को भी समझाने का प्रयास करूंगा। उन्होंने कहा कि वो केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल से भी बात करेंगे। स्वामी ने कहा कि कोई भी आदमी मंदिर का मालिक नहीं हो सकता है भगवान स्वयं उसके संरक्षक होते हैं।

स्वामी ने कहा कि रामसेतु को नेशनल हेरिटेज मॉन्यूमेंट घोषित करने को लेकर भी प्रधानमंत्री का रुख साफ नहीं था। लेकिन बाद में गडकरी ने इस मामले में हस्तकक्षेप कर इसे पूरा करवाया। स्वामी ने कहा कि ज्ञानव्यापी  के मुद्दे पर हमें प्रयास करने की जरूरत है।

इससे पहले स्वामी ने हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से प्रसिद्ध पर्यटन स्थल डलहौजी का नाम बदल कर  स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नाम पर रखने की मांग की। राज्यपाल को लिखे अपने पत्र में उन्होने कहा है कि मेरे सहयोगी सिनियर एडवोकेट अजय जग्गा की पुरानी मांग पर विचार करते हुए इस शहर का नाम नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नाम पर कर दिया जाए।

स्वामी ने  लिखा है कि साल 1992 में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार के द्वारा इसे लेकर एक नोटिफिकेशन भी जारी किया गया था। लेकिन बाद में वीरभद्र सिंह की तरफ से उस नोटिफिकेशन को रद्द कर आदेश को पलट दिया गया था।