ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम को वापस भेजे जाने पर शशि थरूर ने उठाए सवाल

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370) खत्म किए जाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम्स (Debbie Abrahams) को मोदी सरकार द्वारा डिपोर्ट किए जाने को लेकर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है।

शशि थरूर ने कहा, मुझे लगता है यह दुर्भाग्यपूर्ण है। ऐसे लोगों को भारत में प्रवेश न देने से हमें एक संकीर्ण दिमाग और असहिष्णु वाला देश समझा जाएगा, जो हमारे देश के लिए सही नहीं है, हमारे देश में विविधता है। हमारे पास बाहर से आने वाले लोगों के नकारात्मक दृष्टिकोण को सहन करने की क्षमता है।

तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा, ‘अगर कश्मीर में चीजें ठीक हैं तो क्या सरकार को आलोचना करने वालों को खुद की नजर से वहां की स्थिति नहीं देखने देनी चाहिए थी ताकि उनके डर पर विराम लगे?’

तो वहीं कांग्रेस नेता और वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सरकार के फैसले का समर्थन किया है। कांग्रेस नेता का कहना है कि ऐसा फैसला लेना जरूरी था।

मंगलवार सुबह कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट कर लिखा, ‘डेबी अब्राहम को भारत के द्वारा वापस भेजना काफी जरूरी था। वह सिर्फ एक ब्रिटिश सांसद नहीं थीं, बल्कि वो एक पाकिस्तानी प्रतिनिधि थीं जो वहां की सरकार, आईएसआई के लिए काम करती रही हैं। भारत की संप्रभुता को अलग करने के लिए जो भी प्रयास किए जाएंगे उन्हें नाकाम करना जरूरी है।’

बता दें कि  ब्रिटिश संसद की सदस्य और कश्मीर के लिए ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप की प्रेसिडेंट डेबी सोमवार को दुबई से भारत पहुंची थीं लेकिन दिल्ली एयरपोर्ट पर ही उन्हें रोक दिया गया।  उन्हें बताया गया कि उनका ई-वीजा रद्द कर दिया गया है। जिसके बाद उन्हें वापस दुबई भेज दिया गया।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE