कपिल मिश्रा जैसे लोग बांद्रा घटना को दे रहे सांप्रदायिक रंग, मुंबई पुलिस दर्ज करें एफआईआर: संजय राउत

मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों के अपने गृह राज्य जाने के लिए एकत्र होने के मामले को मस्जिद से जोड़ कर सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की गई। इस मामले में पुलिस ने पहले ही मराठी चैनल एबीपी माँझा  के पत्रकार को गिरफ्तार कर लिया है। इसके अलावा विनय दुबे नामक शख्स को लोगों को इकठ्ठा करने के लिए गिरफ्तार किया है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले के आरोपी राहुल कुलकर्णी को हिरासत में ले लिया गया है और पुलिस उसे मुंबई ला रही है। उन्होंने बताया कि हाल ही में एक खबर में कुलकर्णी ने कहा था कि लॉकडाउन के कारण फंसे हुए लोगों के लिए जन साधारण विशेष ट्रेनें बहाल होंगी। अधिकारी ने बताया कि उस पर आईपीसी की धारा 188, 269, 270 और 117 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इसी बीच अब शिवसेना नेता संजय राउत ने मुंबई पुलिस से बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के ख़िलाफ़ इस मामले में एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा,“कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में हम सभी को एकजुट होना चाहिए। लेकिन कपिल मिश्रा जैसे लोग पीएम की बात भी नहीं सुन रहे हैं और बांद्रा में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं। मुंबई पुलिस को ऐसे तत्वों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करनी चाहिए।”

वहीं प्रवासी मजदूरों को गुमराह कर इकट्ठा करने वाले ‘विनय दुबे’ को मुंबई पुलिस ने एरोली क्षेत्र से देर रात उसे गिरफ्तार किया और फिर बांद्रा स्टेशन ले गई। पुलिस ने इस मामले में आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। विनय दुबे पर भीड़ को गुमराह करने का आरोप है।

विनय दुबे ‘चलो घर की ओर’ कैंपेन चला रहा था और अपने फेसबुक पर शेयर किए गए पोस्ट में उसने टीम के बांद्रा में होने की बात कही थी। इतना ही नहीं उसने मुंबई के कुर्ला में 18 अप्रैल को प्रवासी मजदूरों की ओर से देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन करने की धमकी दी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE