गहलोत के आरोपो पर बोले सचिन पायलट – राजद्रोह का नोटिस थमा कर आत्मसम्मान को पहुंचाई ठेस

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट को लेकर आरोप लगाते हुए कहा था कि बीजेपी की तरफ से हॉर्स ट्रेडिंग में वह शामिल थे। ऐसे में अब सचिन पायलट ने खुद आगे आकर गहलोत के आरोपों का जवाब दिया है। पायलट ने कहा, मै अशोक गहलोत से नाराज नहीं हूं और न ही किसी विशेष अधिकार या सुविधा की मांग की है। मैं बस यही चाहता था कि चुनाव के दौरान राजस्थान की जनता से कांग्रेस ने जो वादे किए थे, उसे पूरा किया जाए।

अमर उजाला के अनुसार, उन्होंने कहा, मैंने कई बार इन मसलों को सभी के सामने रखा। गहलोत से भी बात की। हालांकि, जब मंत्रियों और विधायकों की बैठक ही नहीं होती थी, तो बहस और बातचीत की जगह नहीं बची। ऊपर से राज्य की पुलिस ने मुझे राजद्रोह का नोटिस थमा दिया। इससे मेरे आत्मसम्मान को ठेस पहुंची।

इंटरव्यू में पायलट ने कहा, गहलोत एक तरफ तो पूर्व मुख्यमंत्री की मदद कर रहे हैं और दूसरी तरफ मुझे और मेरे समर्थकों को राजस्थान के विकास में काम करने की जगह नहीं दे रहे हैं। अफसरों को कहा गया कि मेरे आदेश न मानें, मुझे फाइलें नहीं भेजी जा रही थीं। महीनों तक विधायक दल या कैबिनेट की बैठक नहीं होती है। डिप्टी सीएम पद का क्या फायदा अगर मैं लोगों को किया गया वादा ही पूरा नहीं कर सकूं।

पायलट ने कहा, हमने वसुंधरा राजे सरकार द्वारा अवैध खनन को पट्टे पर दिए जाने के खिलाफ अभियान छेड़ा और तत्कालीन सरकार पर दबाव बनाया कि इन आवंटनों को रद्द किया जाए। सत्ता में आने के बाद अशोक गहलोत ने भी इस मामले में कुछ नहीं किया और वह भी उसी राह पर चल पड़े। पिछले साल राजस्थान हाईकोर्ट ने एक पुराने फैसले को पलटते हुए वसुंधरा राजे को बंगला खाली करने को कहा, लेकिन गहलोत सरकार ने फैसले पर अमल करने की बजाय इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी।

इससे पहले अशोक गहलोत ने कहा था कि मेरे खिलाफ साजिश हो रही है। वो लोग बीजेपी में मिले हुए हैं। सबने मिलकर खरीद-फरोख्त की है। इन लोगों को जनता जवाब देगी। सचिन पायलट का नाम लेते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि पायलट के काम ना करने देने की बात गलत है। पायलट ने मेरी कभी कोई बात नहीं मानी है। गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट बिना इजाजत विदेश जाते रहे हैं।

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट खुद राजस्थान सरकार गिराने की डील कर रहे थे। विधायकों को पैसे के लालच दिए जा रहे थे। इसके सबूत भी हैं। दिल्ली में बैठे लोगों ने सरकार गिराने की साजिश रची। लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश हो रही है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE