तीन पूर्व CM को देश विरोधी साबित करना चाहते है पीएम मोदी: महबूबा मुफ्ती की बेटी

जम्मू-कश्मीर के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) और उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के कार्रवाई किए जाने को लेकर महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा मुफ्ती मोदी सरकार को निशाने पर लिया है। उन्होने कहा कि वह राज्य के तीन पूर्व CM को देश विरोधी साबित करना चाहते है।

एनडीटीवी से बातचीत में उन्होने कहा, ‘पीएम मोदी ने संसद में उमर अब्दुल्ला जी का जो बयान पढ़ा, वो उन्होंने कभी कहा ही नहीं था। वो एक फर्जी न्यूज वेबसाइट से लिया गया। ये मुझे चौंकाता है कि जब पीएम 6 महीने बाद संसद में अनुच्छेद 370 के बारे में बोलते हैं तो वह तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों (महबूबा मुफ्ती, फारुक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला) को देश विरोधी बताने का फैसला करते हैं।

उन्होने कहा, ये वही महबूबा मुफ्ती हैं जिनके साथ बीजेपी ने गठबंधन सरकार बनाई थी। जब बीजेपी को जम्मू-कश्मीर में सत्ता में आना था तो उन्हें महबूबा जी के स्टैंड से कोई परेशानी नहीं थी और आज वो अचानक जाग गए और उन्हें अहसास हो गया कि वो आर्टिकल 370 हटाए जाने के खिलाफ थीं।’

बता दें कि जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत दो प्रावधान हैं-लोक व्यवस्था और राज्य की सुरक्षा को खतरा। पहले प्रावधान के तहत किसी व्यक्ति को बिना मुकदमे के छह महीने तक और दूसरे प्रावधान के तहत किसी व्यक्ति को बिना मुकदमे के दो साल तक हिरासत में रखा जा सकता है।

पीएसए लगने के बाद महबूबा मुफ्ती के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट भी किया गया है। ट्वीट में मुफ्ती पर पीएसए लगाए जाने की जानकारी देते हुए लिखा गया है, ‘इस तानाशाही सरकार से राज्य के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों पर पीएसए जैसा कठोर कानून लगाने की उम्मीद कर सकते हैं, जिसने 9 साल के बच्चे पर भी देशद्रोही टिप्पणी के लिए केस किया हो। देश के मूल्यों को अपमान किया जा रहा है, ऐसे में हम कब तक दर्शक बने रहेंगे।’ बता दें कि महबूबा का ट्विटर अकाउंट उनकी बेटी संभालती हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE