गहलोत के मंत्री बोले – भारत में कोई तहसीलदार ईमानदार नहीं, लेते है 2 फीसदी रिश्वत

कोटा : राजस्थान सरकार के एक मंत्री ने दावा किया है कि देश में ईमानदार तहसीलदार नहीं हैं और जो ईमानदार है वे लोग भी 2 फीसदी रिश्वत लेते हैं। राजस्थान के उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि देश भर के तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों और पटवारियों के बीच 2 प्रतिशत रिश्वत लेने की प्रथा है।

उन्होंने मंगलवार को बूंदी में एक जन सुनवाई के दौरान कहा, भारत में कहीं भी, एक ईमानदार तहसीलदार, नायब तहसीलदार और पटवारी नहीं मिल सकता है। मैं छह बार विधायक रहा हूं और तीन बार मंत्री पद पर रहा हूं – कई तहसीलदार, नायब तहसीलदार प्रतिनियुक्त थे, वे हमेशा 2 प्रतिशत (रिश्वत) लेते हैं।”

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य सत्येश शर्मा द्वारा तहसीलदार (राजस्व अधिकारी) प्रीतम कुमारी मीणा को प्रतीक्षित पोस्टिंग ऑर्डर (एपीओ) मिलने का मुद्दा उठाए जाने के बाद मंत्री की प्रतिक्रिया आई।

इस बीच, पार्टी के बूंदी शहर के अध्यक्ष देवराज गोचर के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिला कलेक्टर आशीष गुप्ता के खिलाफ उनकी शिकायतों को कथित रूप से नहीं सुनने के लिए मंत्री के खिलाफ नारेबाजी की।

प्रदर्शनकारियों ने यह भी कहा कि वे भविष्य में बूंदी जिले के प्रभारी परसादी लाल मीणा को जिले का दौरा नहीं करने देंगे।