सड़क पर प्रवासी मजदूरों से राहुल गांधी की बातचीत को निर्मला सीतारमण ने बताया ड्रामेबाजी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस सांसद राहुल गांधी को कहा है कि सड़क पर बैठकर बात करने से मजदूरों की समस्या का हल नहीं होगा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने मजदूरों के साथ बैठकर, उनसे बात करके उनका समय बर्बाद किया। उन्हें मजदूरों के साथ सामान उठाकर उनके साथ पैदल जाना चाहिए था। उन्हें मजदूरों के बच्चों को और उनके सामान को उठाकर उनके साथ चलना चाहिए था।

वित्त मंत्री ने कहा कि हम प्रवासियों को ट्रेन में बिठाकर, उनके खाने का इंतजाम कर घरों तक पहुंचा रहे हैं। जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकारें हैं या उनके सहयोगियों की सरकारें वहां वे और ट्रेनें मंगवाकर और इतनी सुविधाएं देकर और ज्यादा प्रवासियों को घर भेजें। इस दौरान उन्होंने मजदूरों के घर वापसी मुद्दे पर बात करते हुए दो बार हाथ जोड़ा और विपक्ष से साथ काम करने की अपील की।

वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासियों से जहां हैं, वहीं रहने की अपील की थी। साथ ही उनके खाने और रहने की व्यवस्था करने का भी निर्देश दिया था। राज्य सरकारें सहयोग करने की कोशिश कर रही हैं। रेलवे ने प्रवासियों के लिए ट्रेनों को भेजने के लिए राज्य सरकार से कहा है। यह देखकर दुख होता है कि प्रवासी मजदूर पैदल अपने घर जा रहे हैं। इस पर राजनीति हो रही है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीतारमण ने कहा कि कांग्रेस से जुड़े मुद्दे आप ने उठाए हैं तो जवाब देना चाहूंगी। क्यों जहां पर कांग्रेस या उनकी सहयोगी दलों की सरकारें हैं वे रेलवे से ज्यादा ट्रेनें मांगवाकर प्रवासियों को घर नहीं पहुंचाती हैं। ऐसा न करके जब लोग पैदल जा रहे तो उनसे बात करने से बेहतर हैं कि उनका सामान उठा कर साथ चलते।

सीतारमण ने कहा, “वो हमें ड्रामेबाज कहते हैं मैं उन्हीं के शब्दों को लेकर कहती हूं कि कल जो कुछ हुआ। सड़क पर मजदूरों को पकड़कर उनसे बात करना, यह इसका समय है क्या। वो ड्रामबाज नहीं है क्या। प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर हमें साथ बैठकर बात करना चाहिए। मैं सोनिया गांधी जी से हाथ जोड़कर मांग करती हूं कि हमसे बात करें और प्रवासी मजदूरों के प्रति जिम्मेदारी समझें।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE