चोकसी -माल्या की तरह गरीबों का ऋण भी माफ कर दे मोदी सरकार: मौलाना कासमी

भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस सचिव मौलाना उमर कासमी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से 50 विलफुट डिफाल्टरों की तरह देश के गरीबों, मजदूरों, किसानों और छोटे व्यापारियों का ऋण माफ करने की मांग की।

उन्होने कहा कि देश को लूट कर फरार होने वाले नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और विजय माल्या जैसे लोगों का 68,000 करोड़ से ज्यादा का कर्ज माफ किया जा सकता है तो देश के गरीब किसानों और मजदुरों का क्यों नहीं।

कासमी ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से इन लोगों के पास रोजगार नहीं है। ये लोग दो वक्त के भोजन की व्यवस्था बड़ी मुश्किल से कर पा रहे है। ऐसे में इन लोगों के पास भी ऋण की किश्तों के भुगतान का कोई जरिया नहीं है। उन्होने कहा कि इन लोगों का भी ऋण माफ किया जाना चाहिए।

कांग्रेस नेता ने कहा कि आज छोटे व्यापरियों के व्यापार पूरी तरह से ठप्प है। दुकानों और प्रतिष्ठानों का किराया देना पड़ रहा है। गोदामों में पड़ा माल नहीं रहा है। उधारी की वसूली हो नहीं पा रही है। ऐसे में कैसे बैंकों का कर्ज चुकाए। ये बड़ा सवाल है।

उन्होने कहा कि देश में महिलाएं सहायता समूह के जरिये ऋण लेकर अपनी मुसीबतों का हल निकाल रही थी। लेकिन लॉकडाउन के बाद इन ऋणों को चुकता करना है। पर आय का कोई साधन नहीं है। कांग्रेस सचिव ने कहा कि मोदी सरकार ने 2014-15 से 2019-20 के बीच डिफाल्टरों का 6,66,000 करोड़ रुपये का कर्ज राइट ऑफ किया। लेकिन देश की गरीब जनता के लिए मोदी सरकार ने कुछ नहीं किया।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE