कासमी का विजयवर्गीय से सवाल – फिर तो पोहा खाने वाले सभी मालवावासी हो गए बांग्लादेशी?

भोपाल: बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय द्वारा पोहा खाने वाले मजदुरों की तुलना बांग्लादेशियों से करने पर प्रदेश कांग्रेस सचिव मौलाना उमर कासमी ने कहा कि ऐसे में तो मालवा का हर निवासी बांग्लादेशी कहलाएगा।

उन्होने कहा कि देश के नागरिकों की पहचान प्रधानमंत्री कपड़ों से कर रहे हैं तो कैलाश विजयवर्गीय पोहे से पहचान रहे हैं। उन्होने कहा कि देश के नागरिकों की बीजेपी ने पहचान का नायाब तरीका इजाद किया है। लेकिन उन्हे सिर्फ देश की असल समस्याओं की ही पहचान नहीं है।

कासमी ने कहा कि आज मध्यप्रदेश का खासकर विजयवर्गीय के इंदौर का हर नागरिक नाश्ते में पोहा खाता है। लेकिन उनका पोहा खाने पर किसी को भी बांग्लादेशी बता देना शर्मनाक है।

उन्होने कहा कि ये तो गनीमत है कि उनका ये बयान एनआरसी और एनपीआर के पहले दिया गया। अगर एनआरसी और एनपीआर के बाद दिया गया होता तो आज पोहे खाने पर विदेशी और देशद्रोही घोषित कर दिया जाता।

कांग्रेस नेता ने कहा कि दुख है बीजेपी की यही सोच है जिससे लोग डर रहे हैं। इन्हीं बयानों की वजह से लोगों का इनके ऊपर भरोसा नहीं होता है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE