मणिपुर में बीजेपी को बड़ा झटका – 3 विधायक कांग्रेस में शामिल, एनपीए ने लिया समर्थन वापस

मणिपुर में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की गठबंधन सरकार गिरने के कगार पर आ गई है। बुधवार को नेशनल पीपुल्स पार्टी के उप-मुख्यमंत्री वाई जॉय कुमार समेत नेशनल पीपुल्स पार्टी के चार मंत्रियों ने इस्तीफा दिया और वे सभी कांग्रेस में शामिल हो गए। साथ ही बीजेपी के तीन विधायकों ने इस्तीफा देकर कांग्रेस का दामन थाम लिया है। इसके अलावा एक टीएमसी विधायक और एक निर्दलीय विधायक ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है।

ताजा घटनाक्रम के बाद 60 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा नेतृत्व वाली सरकार अल्पमत में आ गई है। हालांकि विधानसभा की प्रभावी सदस्य फिलहाल संख्या 59 है क्योंकि एंद्रो सीट से कांग्रेस टिकट पर निर्वाचित श्याम कुमार सिंह को भाजपा में जाने की वजह से अयोग्य ठहरा दिया गया था।

अपने तीन विधायकों के पार्टी छोड़ने की बात की पुष्टि करते भाजपा प्रवक्ता विजय चंद्र ने बीबीसी से कहा,”हमारे तीन विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया है। अब वे लोग मतदान करने के लिए योग्य नहीं रहेंगें। दरअसल 19 जून को राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान होने है और तबतक यह उठापटक चलेगी।”

एनपीपी के चार विधायकों ने भी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है, तो क्या ऐसी स्थिति में आपकी सरकार बच पाएगी? इस सवाल का जवाब देते हुए बीजेपी नेता ने कहा,”अभी इन तमाम बातों पर कुछ नहीं कहा जा सकता। जो भी संकट सामने आया है पार्टी स्तर पर बातचीत हो रही है और गुरूवार शाम तक तस्वीर साफ हो जानी चाहिए।”

सूबे के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को सौंपे अलग-अलग पत्रों में जॉयकुमार, हाओकिप और कायिसी की ओर से कहा गया है कि मैं यह बताने के लिए तैयार हूं कि मैंने मणिपुर की बीजेपी नीत गठबंधन सरकार के कैबिनेट मंत्री से अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इस बीच पत्रकारों से बात करते हुए जॉयकुमार सिंह ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री को अपना आधिकारिक इस्तीफा पत्र सौंप दिया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE