कपिल मिश्रा को लेकर बोले मनोज तिवारी – भड़काऊ बयान देने वालों के चुनाव लड़ने पर लगे रोक

दिल्ली चुनावों में मिली करारी हार के बाद दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि नफरत भरे बयानों और भाषणों से BJP को नुकसान उठाना पड़ा है। उन्होंने कहा कि जो लोग नफरत फैलाने वाले भाषण देते हैं, उन्हें पार्टी से उसी समय निकाल देना चाहिए। साथ ही उनसे चुनाव लड़ने का अधिकार भी स्‍थाई तौर पर छीन लेना चाहिए।

बीजेपी सांसद परवेश वर्मा के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आतं’कवादी कहने और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनका बचाव करने को लेकर तिवारी ने कहा, “मैंने इसकी (भाषण) निंदा की है और मैंने चुनावों से पहले ऐसा किया। प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने भी इसकी निंदा की है। हमारे संविधान में गद्दारों (राष्ट्र-विरोधी) को दंडित करने के प्रावधान हैं और मुझे उन पर पूरा भरोसा है।”

तिवारी ने कहा, “हां, जावड़ेकर मेरे पास बैठे थे और उन्होंने ऐसा किया था लेकिन मेरे पास यहां बताने के लिए दो बिंदु हैं। संदर्भ चाहे जो भी रहा हो, वह घृणास्पद भाषण था और हमारी पार्टी को उसके कारण बड़े नुकसान का सामना करना पड़ा। हमने उस भाषण की निंदा की थी और आज भी कर रहा हूं।”

वहीं नागरिकता कानून (CAA) के समर्थन में कनॉट प्लेस में हुई रैली के दौरान भाजपा नेता कपिल मिश्रा के “गो’ली मारो” के नारे लगाने के सवाल पर तिवारी ने कहा, “जब उन्होंने ये नारे लगाए तब मुझे इनकी जानकारी नहीं मिली। मैं चाहता हूं कि जो ऐसे बयान दें उन्हें हमेशा के लिए हटा दिया जाए। एक ऐसी व्यवस्था बनाई जाए जहां भड़काऊ बयान देने वाले लोगों का (चुनाव लड़ने का) कानूनी अधिकार चला जाए।”

 उन्होंने कहा, “अगर इस तरह की व्यवस्था लागू की जाती है, तो मैं व्यक्तिगत तौर पर (पार्टी अध्यक्ष के रूप में नहीं) इसका समर्थन करूंगा।” तिवारी ने कहा कि इस संदर्भ में ओखला विधायक अमानतुल्ला खान या हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी के भाषणों का भी परीक्षण किया जाना चाहिए। हमारा देश सबसे सुंदर देश है।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE