सपा सांसद शफीक उर रहमान की मांग – मस्जिदों और ईदगाहों में नमाज पढ़ने की दी जाए अनुमति

कोरोना महमारी के चलते मस्जिदों में सामूहिक नमाज को लेकर लगाई गई पाबंदी को लेकर समाजवादी पार्टी  के सांसद शफीक उर रहमान ने कहा कि नमाज पढ़ने से ही कोरोना खत्म हो पाएगा।

शफीकुर्रहमान ने फिर से कहा कि अल्लाह से माफी मांगना ही कोरोना से बचने का सबसे अच्छा तरीका है, अल्लाह माफ करेगा तभी हम कोरोना से बच पाएंगे। उन्होंने ईद उल जुहा पर मस्जिदों और ईदगाहों में नमाज अदा करने के लिए अनुमति मांगी।

शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा है कि ईद उल जुहा के मौके पर मस्जिदों और ईदगाह में मुस्लिमों की सामूहिक नमाज पर पाबंदी लगाना गलत है। सरकार मस्जिद और ईदगाह में मुस्लिमों के नमाज करने पर लगी पाबंदी को हटाए क्योंकि जब देश के सभी मुस्लिम मस्जिदों में नमाज पढ़ेंगे तभी ये मुल्क बचेगा।

उन्होने ये भी कहा कि यह बीमारी होती तो अबतक इसकी दवा बन चुकी होती। यह बीमारी नहीं है। इस पर एंकर ने कहा कि जब यह बीमारी छूने से एक साथ आने से फैल रही है तो फिर आप लॉकडाउन हटाने की वकालत क्यों कर रहे हैं। ऐसे तो और लोगों में भी बीमारी फैलने का खतरा बढ़ जाएगा। इस पर उन्होंने कहा कि जबतक इसका कोई इलाज नहीं है तब तक इसका इलाज यही है कि इबादत और दुआ की जाए।

शफीकुर्रहमान बर्क ने ईद उल जुहा के मौके पर लगने वाले पशुओं के बाजार पर पाबंदी के लिए भी जिला प्रसासन से भी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि ईद उल जुहा मुस्लिमों का बड़ा त्यौहार है, जब मुस्लिम जानवरों की खरीदारी नहीं कर सकेंगे तो त्यौहार कैसे मनाएंगे इसीलिए जिला प्रसासन जानवरों के बाजार के खोलने पर लगी पाबंदी हटाए।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE