LG अनिल बैजल ने पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला – फिर से सभी देशवासियों का होगा इलाज

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल (LG Anil Baijal) ने केजरीवाल सरकार (Arvind Kejriwal) के उस फैसले को पलट दिया जिसमे दिल्ली के बाहर वालों के दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों  में दिल्लीवालों से बाहर वालों के इलाज कराने पर रोक लगाई गई थी।

बैजल ने अपने पहले आदेश में कहा कि उच्चतम न्यायालय ने कई फैसलों में कहा है कि स्वास्थ्य का अधिकार संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीवन के अधिकार का अभिन्न अंग है। उपराज्यपाल ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में स्थित सभी सरकारी और निजी अस्पतालों तथा नर्सिंग होम और क्लीनिकों को दिल्ली के निवासी या गैर-निवासी के बीच किसी भेदभाव के बिना सभी कोरोना वायरस रोगियों का इलाज करना है। उन्होंने अपने दूसरे आदेश में केवल लक्षण वाले रोगियों के लिए कोरोना वायरस की जांच के आप सरकार के आदेश को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर द्वारा निर्धारित सभी नौ श्रेणियों के लोगों की राष्ट्रीय राजधानी में जांच की जानी चाहिए।

दिल्ली सरकार का फैसला पलटे जाने के बाद  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि शभर से आने वाले लोगों के लिए करोना महामारी के दौरान इलाज का इंतज़ाम करना बड़ी चुनौती है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘LG सा ब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है। देशभर से आने वाले लोगों के लिए करोना महामारी के दौरान इलाज का इंतज़ाम करना बड़ी चुनौती है। शायद भगवान की मर्ज़ी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें। हम सबके इलाज का इंतज़ाम करने की कोशिश करेंगे।

वहीं  केजरीवाल कैबिनेट के महत्‍वपूर्ण सदस्‍य और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने कहा, ‘हमारी सरकार ने जो फैसले लिए थे LG साहब ने उसे खत्‍म (पलट) कर दिया है। अब लोग मुझे फोन करके पूछ रहे हैं कि दिल्‍ली वाले कहां जाएंगे? ऐसे में दिल्‍ली वालों का कहां इलाज होगा यह चिंता का विषय है।’

सत्‍येंद्र जैन ने बताया कि इस मसले पर उपराज्‍यपाल से बात की जाएगी। दिल्ली के अंदर बाहर के लोगों को रखा गया, जिसके कारण संक्रमितों की संख्‍या बढ़ गई है। दिल्‍ली के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने बताया कि उन्‍होंने ऐसे लोगों को उनके संबंधित राज्‍यों में भेजने की बात कही है। सत्‍येंद्र जैन ने आगे बताया कि दिल्‍ली में कम्‍युनिटी स्‍प्रेड है कि नहीं यह तो केंद्र सरकार ही बताएगी। उन्‍होंने कहा कि तकरीबन आधे केस ऐसे हैं, जिनके बारे में यही पता नहीं कि उन्‍हें कोरोना का संक्रमण कहां से हुआ।

इसके अलावा डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी की राज्य सरकारें PPE किट घोटालों और वेंटिलेटर घोटालों में व्यस्त हैं. दिल्ली सरकार सोच समझकर, ईमानदारी से इस डिज़ास्टर को मैनेज करने की कोशिश कर रही है। यह बीजेपी से देखा नहीं जा रहा इसलिए LG पर दबाव डालकर घटिया राजनीति की है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE