सियासी संग्राम के बीच राजस्थान में कांग्रेस ने किया दो विधायकों को निलंबित

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच सियासी संग्राम अब भी जारी है। इसी बीच अब पार्टी ने अपने दो विधायकों भंवरलाल शर्मा, विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है। इसकी घोषणा कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने शुक्रवार सुबह की।

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस का फैसला है कि भवंरलाल और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित किया गया है। दोनों लोगों को शो कॉज़ नोटिस भी दिया गया है।’ सुरजेवाला ने यह भी कहा कि पार्टी ने सचिन पायलट से भी सामने आकर अपना स्टैंड साफ करने को कहा है। सुरजेवाला ने कहा कि राजस्थान में पिछले एक महीने में राजस्थान में विधायकों की खरीद-फरोख्त की बातचीत चल रही थी। एसओजी इस मामले में जांच कर रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने बताया कि मीडिया द्वारा एक चौंकाने वाला ऑडियो टेप सामने लाया गया था जिसमें केंद्रीय मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत, भाजपा नेता संजय जैन और भंवरलाल शर्मा विधायकों को रिश्वत देने और राजस्थान सरकार गिराने की बात कर रहे हैं। इसके बाद दो कांग्रेसी विधायकों भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित किया गया है।

उन्होंने कहा कि जो टेप सामने आए हैं उससे एक बात साफ़ है कि बीजेपी द्वारा जनमत का अपहरण की कोशिश की जा रही है। सुरजेवाला ने कहा कि ‘हम मांग करते हैं कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के ख़िलाफ़ SOG द्वारा मुक़दमा हो वो जांच में ग़लत पाए जाएं तो उनकी गिरफ़्तारी हो।’

इसी टेप में भवंरलाल शर्मा की ओर से कांग्रेस विधायक चेतन डूडी का नाम लिया जा रहा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद चेतन डूडी ने बताया कि उन्हें किस तरह से पैसे ऑफर किए गए। डूडी ने बताया कि इस तथाकथित ऑडियो में मेरा नाम है। मैं इतना कहना चाहूंगा कि मुझे प्रलोभन देने की कोशिश की गई, जिसे मैंने ठुकरा दिया। आगे जो भी जांच होगी मैं उसमें पूरा सहयोग करुंगा।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE