सीएम भूपेश बघेल ने राजस्थान के सियासी संकट को उमर अब्दुल्ला की रिहाई से जोड़ा

राजस्थान में जारी सियासी संग्राम की आंच छतीसगढ़ होते हुए अब जम्मू & कश्मीर तक पहुँच गई है। दरअसल, छतीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने इस पूरे मामले को इशारो में जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और उनके पिता फारूक अब्दुल्ला की रिहाई से जोड़ा है।

भूपेश बघेल ने अंग्रेजी वेबसाइट द हिन्दू से बातचीत के दौरान कहा कि वे राजस्थान के घटनाक्रम का बारीकी से अध्ययन तो नहीं कर रहे हैं लेकिन ये हैरानी की बात है कि उमर अब्दुल्ला को रिहा क्यो किया गया? भूपेश बघेल ने कहा कि उन्हें और महबूबा मुफ्ती को एक ही धाराओं के तहत हिरासत में लिया गया था। जबकि महबूबा मुफ्ती अभी भी जेल में हैं, उमर अब्दुल्ला बाहर आ गए हैं, क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि उमर अबदुल्ला और सचिन पायलट के बीच रिश्तेदारी है।

बता दें कि राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट का विवाह उमर अब्दुल्ला की बहन सारा अब्दुल्ला से हुआ है। इस बयान के सामने आने के बाद उमर अब्दुल्ला ने बघेल को कानूनी नोटिस भेजने की चेतावनी है। अब्दुल्ला ने बघेल को चेतावनी देते हुए कहा कि अब बहुत हो गया है, मेरे वकील जल्द ही भूपेश बघेल को नोटिस भेजेंगे।

उन्होंने कहा कि वे राजस्थान की सियासत को लेकर झूठे और घटिया आरोप सुनकर दंग हो गए कि राजस्थान में सचिन पायलट जो कुछ भी कर रहे हैं, उसका किसी तरह से फारूक अब्दुल्ला या उनकी रिहाई से लेना देना-देना है। वहीं, उमर अब्दुल्ला के इस ट्वीट पर सीएम भूपेश बघेल ने भी ट्वीट कर पलटवार किया है।

उन्होंने कहा कि अब्दुल्ला जी आप लोकतंत्र पर हुए इस आघात को अवसर में बदलने की कोशिश न करें। इस आरोप के संबंध में तो हम सवाल पूछेंगे ही। वहीं, सीएम बघेल के इस ट्वीट पर अब्दुल्ला ने फिर ट्ववीट किया. उन्होंने कहा कि आप अपना जवाब मेरे वकील को भेज सकते हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के साथ आज यही दिक्कत है कि वे नहीं जानते कि उनका दोस्त कौन है और विरोधी कौन है? कांग्रेस पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि यही कारण है आज कांग्रेस आपस में उलझी हुई है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE