राजस्थान के सियासी संग्राम में कूदी मायावती, कांग्रेस के खिलाफ जाएगी कोर्ट बसपा

राजस्थान में पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बगावत किए जाने के बाद छिड़ा सियासी संग्राम अभी पूरी तरह से शांत भी नही हुआ कि राज्य की गहलोत सरकार को बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) ने झटका देने की तैयारी कर ली है।

जानकारी के अनुसार, बीएसपी के छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के मामले में पार्टी कांग्रेस को अदालत में चुनौती दे सकती है। बुधवार शाम तक इस बारे में निर्णय की संभावना है। गौरतलब है कि पिछले साल सितंबर में बसपा के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने कहा था कि सभी विधायकों का कांग्रेस में विलय पत्र मिल चुका है। अब इसमें किसी प्रकार की कानूनी अड़चन नहीं है। इन विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने से विधानसभा में पार्टी की संख्या 106 हो गई थी। हालांकि राज्यसभा चुनाव के समय चुनाव आयोग को बीएसपी ने इस संबंध में जानकारी दी थी।

पार्टी ने विधायकों पर पार्टी की व्हिप के निर्देशानुसार वोट डालने का आदेश देने को कहा था। चुनाव आयोग ने मामले में दखल देने से इंकार कर दिया था। फिलहाल बीएसपी की दलील है कि इन विधायकों की स्थिति तय करने से पहले विधानसभा अध्यक्ष पार्टी से बात करें।

बीएसपी से कांग्रेस में उदयपुरवाटी राजेंद्र गुढा (झुंझुनूं), वाजिब अली (नगर भरतपुर), जोगिंदर अवाना (नदबई,भरतपुर), संदीप यादव (तिजारा, अलवर), दीपचंद खेरिया (किशनगढ़ बास, अलवर) और लाखन सिंह (करौली) शामिल हुए थे. अब इस मामले को बीएसपी अदालत में चुनौती दे सकती है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE