हार के बाद बोले बीजेपी नेता मनोज तिवारी – ‘हम नफरत की राजनीति नहीं करते’

दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकार बनाने की उम्मीद लगाए बैठे दिल्ली भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) अध्यक्ष मनोज तिवारी को बड़ी निराशा हाथ लगी है। हार पर उन्होंने कहा कि बीजेपी नफरत की राजनीति नहीं करती है, लेकिन चुनाव के वक्त जब जैसा माहौल होता है वैसा बयान दिया जाता है।

मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली में बीजेपी को सात सीटों पर जीत दिखाया जा रहा है। वे पार्टी की इस करारी हार की समीक्षा करेंगे।दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष ने आगे कहा कि जनदेश सिर माथे पर है, लेकिन इस चुनाव में बीजेपी का वोट प्रतिशत बढ़ा है।

उन्होंने पिछले चुनावों का हवाला देते हुए कहा कि बीजेपी को 2015 में 32 फीसदी वोट मिला था, लेकिन इस बार 38.7 फीसदी वोट मिला है। तिवारी ने आगे कहा कि दिल्ली चुनाव को देखकर ऐसा लगता है कि एक नये ट्रेंड की शुरुआत हुई है। जिसमें कांग्रेस लुप्त प्राय हो गई है।

इससे पहले तिवारी ने कहा था- ‘‘मैं बिल्कुल नर्वस नहीं हूं। मुझे विश्वास है कि आज का दिन भाजपा के लिए अच्छा होगा। अगर हम 55 सीटें जीतते हैं तो किसी को इस पर हैरानी नहीं होनी चाहिए। अपने-अपने परिश्रम से सब लोगों ने परीक्षा दी है। आज पंडित दील दयाल उपाध्याय जी का बलिदान दिवस है। संयोग से आज 11 फरवरी को चुनाव के नतीजे आ रहे हैं। मुझे अच्छा लग रहा है कि रिजल्ट भाजपा के पक्ष में अच्छा आने वाला है।’’

हालांकि तिवारी अपने एक ट्वीट को लेकर जमकर ट्रोल हो रहे हैं। मनोज तिवारी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आठ फरवरी को हुए मतदान के दिन ट्वीट कह कहा था- ‘सभी एग्जिट पोल फेल होंगे। मेरा यह ट्वीट संभाल कर रखिएगा।’ अब जब दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम में आए रुझानों से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनती हुई दिख रही है तो ट्विटर पर लोग मनोज तिवारी को जमकर ट्रोल कर रहे हैं और उनसे कह रहे हैं कि अब अंडरग्राउंड होने का वक्त आ गया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE