ऑडियो मामले में संजय जैन गिरफ्तार, बोले गहलोत – पायलट ने की थी बीजेपी से सरकार गिराने की डील

राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच सरकार गिराने से जुड़ी बातचीत ऑडियो टेप मामले में राजस्थान पुलिस ने संजय जैन को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही राजस्थान पुलिस इस मामले में भाजपा नेता व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से भी पूछताछ कर सकती है।

वहीं अब एबीपी से बातचीत में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीधे सचिन पायलट पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होने बीजेपी से सरकार गिराने की डील की थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी की सह पर सबकुछ हो रहा है। बीजेपी ने मानेसर (यहीं रिसॉर्ट में ठहरे हैं बागी विधायक) में पुलिस लगाई। हरियाणा सरकार देखरेख कर रही है। पूरा खेल बीजेपी का है। इनका (सचिन पायलट) खेल तो कुछ है ही नहीं।

उन्होने कहा, सचिन पायलट शुरुआत में चाहते थे कि बीजेपी में शामिल हो जाऊं। इसके लिए प्रयास किए इन्होंने। छह महीना पहले भी कोशिश की लेकिन इनके साथियों ने कहा कि हम बीजेपी में शामिल नहीं होंगे। फिर उन्होंने कहा कि बीजेपी में शामिल नहीं होते हैं तीसरा मोर्चा बनाते हैं। सरकार को गिराएंगे। बीजेपी इसके लिए समर्थन देगी। जो विधायक इस्तीफा देंगे जब उपचुनाव होगा तो उनके सामने कोई भी उम्मीदवार बीजेपी खड़े नहीं करेगी। ये डील हुआ था। बीजेपी के साथ सरकार नीतीश चला सकते हैं तो हम (सचिन पायलट) क्यों नहीं चला सकते हैं। यह सोच थी।”

सीएम गहलोत ने कहा कि ये आरोप मैं नहीं लगा रहा हूं। उनके साथी ही हमें बताते हैं। सभी को मालूम है। राज्यसभा चुनाव के समय हमने 10 दिनों तक विधायकों को होटल में रखा। रात के दो बजे खेल होना था, जो अब हुआ है। सबकुछ तय था। रात को दो बजे गाड़ी रवाना होने वाली थी। अगले दिन 11 तारीख को स्वर्गीय नेता राजेश पायलट की पुण्यतिथि थी। माल्यार्पण होता और कुछ विधायक प्लेन से दिल्ली पहुंचते। फिर सभी मानेसर पहुंचते। हमने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। लेकिन हमारी तरफ से पूरी तैयारी थी। बाद में फिर बीजेपी और सचिन पायलट का खेल शुरू हो गया।

अशोक गहलोत ने कहा, ”इनके (सचिन पायलट) सिर्फ 15 से 17 विधायक थे। उनके पास क्या शक्ति है। ये बात उन्हें मालूम है। उसके बावजूद हमें छोड़कर गए। इतनी उम्र में इतना ज्यादा महत्वाकांक्षी होना ठीक नहीं है। इन्हें सब्र करना था। हां जो अब शिकायतें कर रहे हैं तो मैं कहना चाहता हूं कि जब वह पार्टी छोड़कर जा रहे हैं तो उनके शिकायतों में वो विश्वसनियता नहीं रहेगी जो पार्टी में रहकर शिकायत करते तब होती। उन्हें भरपूर मौका दिया गया। कोई चर्चा ही नहीं हुई। पिछले डेढ़ सालों में सचिवालय पांच से 10 बार गए। सब्र करते तो आगे बहुत कुछ मिलता। धैर्य रखना था।”

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जब सात साल पहले राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष बने तो यह सोचकर आए थे कि हमें मुख्यमंत्री बनना है। जगह-जगह इसकी चर्चा करते थे। राहुल गांधी ने बैठकों में कहा कि सचिन पायलट की एनर्जी और अशोक गहलोत का अनुभव प्रदेश के लिए बहुत काम आएगा। क्या ये बात उन्हें समझ नहीं आई? नौजवान पीढ़ी नौजवान पीढ़ी को पसंद करती है। मेरे समय में भी हुआ। इसका इस्तेमाल मैंने पार्टी को मजबूत करने में किया।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE