जम्मू-कश्मीर के राज्य का दर्जा बहाल करने का समय सही नहीं: बीजेपी

0
784

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल करने के जोर शोर के बीच भाजपा ने गुरुवार को दोहराया कि वर्तमान स्थिति उसके लिए अनुकूल नहीं है। 5 अगस्त, 2019 को, केंद्र ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म कर दिया गया था और तत्कालीन राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों – जम्मू और कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया।

भाजपा के जम्मू-कश्मीर के प्रवक्ता ने कहा, ‘हमें लगता है कि वर्तमान में जम्मू-कश्मीर में व्यवस्था इतनी मौलिक रूप से नहीं बदली है कि राज्य का दर्जा तुरंत बहाल किया जा सके। हमें जमीन पर चीजों के होने का इंतजार करना पड़ सकता है। हाल ही में आतं’कवादियों द्वारा लक्षित ह’त्याओं और आतं’कवादी गतिविधियों के पुनरुद्धार ने चीजों को रोक दिया है।”

विज्ञापन

उन्होने आगे कहा कि चुनावों को रोका नहीं जा सकता है, उन्होंने कहा कि राज्य की बहाली के बाद चुनाव कराने की मांग करने वाले केवल चुनाव में देरी करना चाहते हैं।बता दें कि नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी सहित जम्मू-कश्मीर के सभी प्रमुख राजनीतिक दलों ने वहां चुनाव कराने से पहले जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा बहाल करने की वकालत की है।

वहीं राजौरी जिले के खंडली इलाके में गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता जसबीर सिंह के घर पर हुए ग्रेने’ड हम’ले में एक 4 वर्षीय की मौ’त हो गई और कम से कम सात लोग घा’यल हो गए। मृ’तक नाबालिग जसबीर सिंह का भतीजा था।

जम्मू एडीजीपी ने पुष्टि की कि राजौरी के खंडली इलाके में भाजपा नेता जसबीर सिंह के घर पर अज्ञात लोगों ने ग्रे’नेड हम’ला किया था, जब परिवार अपनी छत पर था। पीपुल्स एंटी फासिस्ट फ्रंट (पीएएफएफ) ने इस हम’ले की जिम्मेदारी ली है। हालांकि एजेंसी द्वारा दावे का पता लगाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here