अजित पवार ने किया CAA-NRC और NPR का समर्थन, शरद पवार ने जताया था विरोध

मुंबई. संशोधित नागरिकता कानून को लेकर जारी विरोध के बीच महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने रविवार को सीएए का समर्थन करते हुए महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार ने कहा कि इससे किसी भी नागरिक की नागरिकता नहीं जाएगी। कुछ लोग सीएए और एनपीआर को लेकर भ्रम फैला रहे हैं।

अजित पवार ने कहा है कि सीएए और एनपीआर से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी। ऐसे में महाराष्ट्र में बिहार की तर्ज पर इसके खिलाफ कानून पास करने की जरूरत नहीं है।पवार ने कहा,‘‘ राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने जबान दी है। कुछ लोग इस मुद्दे पर अलग तरह की बहस शुरू करना चाहते हैं।’’

उन्होंने कहा कि सीएए, एनपीआर और एनआरसी से किसी को भयभीत होने की जरूरत नहीं है और उनकी पार्टी ऐसे एहतियात बरतेगी कि महाराष्ट्र के किसी भी नागरिक को सीएए, एनआरसी और एनपीआर से कोई परेशानी नहीं हो।

पवार ने कहा,‘‘शरद पवार (राकांपा प्रमुख) तथा अन्य नेताओं ने भरोसा दिलाया है कि महाराष्ट्र में किसी भी व्यक्ति को इससे (सीएए,एनआरसी और एनपीआर) किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी। हम इस मुद्दे पर महाविकास अघाडी सरकार में चर्चा कर चुके हैं।’’ उन्होंने इस मामले में और जागरुकता लाने पर जोर दिया।

हालांकि इससे पहले शरद पवार ने पिछले वर्ष दिसंबर में कहा था कि महाराष्ट्र को आठ अन्य राज्यों की ही तरह संशोधित नागरिकता कानून को लागू करने से इनकार करना चाहिए। वहीं राकांपा नेता ने नवाब मलिक ने भी पिछले माह कहा था कि एनआरसी महाराष्ट्र में लागू नहीं होगा। वहीं कांग्रेस ने सीएए और एनपीआर के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव लाने की मांग की थी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE