अजीत पवार बोले – महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद में पीएम मोदी करे हस्तक्षेप

0
586

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर पड़ोसी राज्य कर्नाटक के साथ राज्य के लंबे समय से लंबित सीमा विवाद को सुलझाने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की है।

9 अगस्त को लिखे पत्र में, पवार ने मोदी से मराठी भाषी लोगों पर कर्नाटक सरकार के “अत्याचारों” को रोकने और महाराष्ट्र में विवादित क्षेत्रों को शामिल करने का बीड़ा उठाने की अपील की। बता दें कि महाराष्ट्र बेलगाम, कारवार और निप्पनी सहित कुछ क्षेत्रों पर दावा करता है। जो कर्नाटक का हिस्सा हैं, इन क्षेत्रों में अधिकांश आबादी मराठी भाषी है।

विज्ञापन

बेलगाम और अन्य सीमावर्ती क्षेत्रों को लेकर दोनों राज्यों के बीच विवाद कई वर्षों से सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। पवार ने कहा कि मुंबई को अपनी राजधानी के साथ महाराष्ट्र राज्य के गठन के 60 साल से अधिक समय हो गया है, लेकिन, बेलगाम, कारवार, बीदर, भालकी, निप्पनी और कर्नाटक के अन्य मराठी भाषी क्षेत्र अभी भी महाराष्ट्र में नहीं हैं।

राकांपा नेता ने कहा, “महाराष्ट्र के लोग और महाराष्ट्र की सीमा से लगे कर्नाटक के मराठी भाषी इलाकों में रहने वालों को इस बात का अफसोस है कि इस मुद्दे का अभी तक समाधान नहीं हुआ है।” उन्होंने कहा कि जब तक सीमा पर मराठी भाषी क्षेत्रों सहित “संयुक्त महाराष्ट्र” का सपना साकार नहीं हो जाता, तब तक महाराष्ट्र आराम नहीं करेगा।

पवार ने पीएम को लिखे अपने पत्र में कहा, “कानूनी तरीकों से लड़ाई जारी रहेगी। हम चाहते हैं कि आप महाराष्ट्र के लोगों की इच्छाओं का संज्ञान लें और न्याय सुनिश्चित करें।” उन्होने कहा, वर्तमान में, सुप्रीम कोर्ट में कानूनी लड़ाई चल रही है और “हमें विश्वास है कि महाराष्ट्र को न्याय मिलेगा।”

डिप्टी सीएम ने पत्र में कहा, “हम कर्नाटक के सीमावर्ती क्षेत्रों के मराठी लोगों को न्याय सुनिश्चित करने के लिए आपकी मदद चाहते हैं। मुझे यकीन है कि आप ऐसा करेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here