AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी को राम मंदिर के ‘भूमि पूजन’ में किया गया आमंत्रित

रामलला मंदिर के शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा का विरोध करने वाले आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी को राम मंदिर के भूमि पूजन में आमंत्रित किया गया है। तेलंगाना भाजपा के नेता और मुख्य प्रवक्ता कृष्णा सागर राव ने ओवैसी को आमंत्रित किया है।

राव ने कहा, “अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजा की जाएगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसमें भाग लेंगे और भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू करेंगे। भगवान राम के जन्म स्थान को यहाँ से भव्य राम मंदिर के रूप में मनाया जाएगा, और भाजपा को गर्व है कि यह हमारे कार्यकाल में है कि दुनिया भर में करोड़ों हिंदुओं के सपने को साकार करना एक वास्तविकता बन गया है।”

उन्होंने कहा कि वामपंथी और एआईएमआईएम जैसे “तुच्छ समूहों” द्वारा की जा रही आपत्तियां “तुच्छ” हैं। उन्होंने कहा, “मुझे नहीं लगता कि किसी को इस तरह के बेबुनियाद आरोपों और आपत्तियों पर प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता है क्योंकि भारत का संविधान प्रत्येक नागरिक के लिए धर्म का अभ्यास करने की स्वतंत्रता प्रदान करता है, और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी उस अधिकार के लिए कोई अपवाद नहीं हैं।”

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास करने वाले हैं। जिसको लेकर ओवैसी ने आपत्ति जताई थी। ओवैसी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का रामलला मंदिर के लिए अयोध्या दौरे पर जाना प्रधानमंत्री के संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा।

ओवैसी ने ट्वीट करते हुए कहा कि धर्मनिरपेक्षता हमारे संविधान के मूल ढांचे का हिस्सा है।  इसके अलावा ओवैसी ने कहा कि हम इस बात को नहीं भूल सकते हैं कि बाबरी मस्जिद 400 सालों से अयोध्या में खड़ी थी लेकिन 1992 में इस मस्जिद को एक आपराधिक भीड़ ने ढहा दिया था।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE