राशन नहीं मिलने पर धरने पर बैठी महिलाएं, चावल बांटने पहुंची गाड़ी तो लूट लिया

देश भर में लॉक डाउन का पहला फेज पूरा होने को है। कई राज्यों में लॉक डाउन के दूसरे फेज की घोषणा कर दी गई है। जो 31 अप्रैल तक होगा है। ऐसे में गरीबो और मजदूरों की हालत बिगड़ती जा रही है। मध्य प्रदेश के भोपाल में आज राशन न मिलने से नाराज महिलाएं धरने पर बैठ गई। और नारे लगाने लगी – हमारे घर में सामान पहुंचाओ..कोरोना का तो नहीं पता, लेकिन अमराई वाले भूखे मर रहे हैं…फांसी लगाएं क्या? राशन नहीं मिला तो मैं यहीं फांसी लगाऊंगी।

जानकारी के अनुसार, ये सभी महिलाएं ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (एम्स) के पीछे बागसेवनिया क्षेत्र स्थित अमराई पार्क के सामने शुक्रवार को विरोध दर्ज कराने सड़क पर बैठ गई। वार्ड 55 की महिला ने आरोप लगाए कि यदि राशन की मांग करने जाओ तो नगर निगम के लाेग बोलते हैं- पुलिस को बुलाएं क्या? न तो अधिकारी मदद कर रहे हैं और न पार्षद।

महिला बिनी जार्ज ने आरोप लगाया कि नि:शुल्क राशन आज तक लोगों के घरों में नहीं पहुंचा है। पार्षद और अधिकारियों से बोलों तो वे कहते हैं कि कलेक्टर ऑफिस से लिस्ट नहीं आई है। बाद में अधिकारी केे आश्वासन पर वे धरने से उठ गईं। जिला आपूर्ति अधिकारी ज्योति शाह ने कहा कि शनिवार से राशन की दुकानें खुल रही हैं। 5 किलो आटा तो बंटवा रहे हैं। हम आटा ही दे पाते हैं। जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं उन्हें राशन दुकान से आटा दिया जाएगा।

वहीं दाल -चावल बांटने बाग मुगालिया एक्सटेंशन पहुंची गाड़ी को झुग्गीवासियों ने लूट लिया। इन लोगों ने ड्राइवर और नगर निगम के स्टाफ के साथ भी बदतमीजी की और गाड़ी को नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया। स्थानीय रहवासी रोहित ने बताया कि जिन लोगों ने यह सामग्री लूटी है उन्हें पहले ही तीन महीने का अनाज मिल चुका है। इनकी हरकत के कारण जरूरतमंदों को सामान नहीं मिल सका।

राशन नहीं मिलने पर कोलार रोड पर झिरी के ग्रामीणों ने मेनरोड पर बोल्डर रख कर रास्ता जाम कर दिया। निगम के कोलार फिल्टर प्लांट के कर्मचारियों को लाने ले जाने वाली स्टाफ बस को आधे घंटे बाद जाने दिया, लेकिन भोपाल आ रहे अन्य लोगों को दूसरे रास्ते से जाना पड़ा। दरअसल, यह गांव रायसेन जिले में है। कलेक्टर उमाकांत भार्गव ने कहा कि लोगों को जल्द ही राशन वितरित किया जाएगा ।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE