सहयोगी AIADMK ने बीजेपी को दिया झटका – तमिलनाडु में NPR पर लगाई रोक

चेन्नई: भाजपा की सहयोगी अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) की अगुवाई वाली तमिलनाडु सरकार ने गुरुवार को नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) के मुद्दे पर सहयोगी बीजेपी से अलग रुख अपनाते हुए नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) की प्रक्रिया के लिए नोटिफिकेशन जारी करने से इंकार कर दिया है।

राज्य के राजस्व मंत्री आरबी उधायकुमार ने कहा कि एडप्पादी के पलानीस्वामी के नेतृत्व वाली सरकार ने केवल जनगणना 2021 की कवायद करने के लिए एक अधिसूचना जारी की है। उन्होंने कहा, “हमने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) अभ्यास करने के लिए एक अधिसूचना जारी नहीं की है क्योंकि केंद्र सरकार ने इसके संबंध में राज्य सरकार द्वारा उठाए गए प्रश्नों को स्पष्ट नहीं किया है।

पलानीसामी ने पिछले महीने केंद्र सरकार को एक पत्र लिखकर NPR की प्रक्रिया को लेकर अल्पसंख्यक समुदायों, खासकर मुस्लिम के बारे में अपने डर को प्रकट किया था और इसमें आवश्यक बदलाव की मांग की थी। उन्होंने आधार और माता-पिता की जानकारी आदि के बारे में केंद्र सरकार से शिकायत की थी। इस बारे में केंद्र के जवाब का अब भी इंतजार है। इस बात की जानकारी राजस्व मंत्री आरबी उदयकुमार ने दी।

डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने एक बयान में कहा, “अगर यह सच है कि उन्होंने (एआईएडीएमके) ने एनपीआर के कुछ पहलुओं पर केंद्र सरकार को वास्तव में पत्र लिखा है, तो उन्हें पत्र जारी करना चाहिए था।” “वे विवेकपूर्वक इसे अपने कब्जे में क्यों कर रहे हैं?

एआईएडीएमके, बीजेपी की दूसरी सहयोगी पार्टी है, जिसने NPR की प्रक्रिया को लेकर अपनी चिंताएं जताई हैं। इससे पहले बिहार में NDA शासित सरकार ने ही विधानसभा में सर्वमति से एक प्रस्ताव पास किया था जिसमें 2010 के फॉर्मेट पर ही कड़ाई से इस प्रक्रिया को कराए जाने की बात कही गई थी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]