चीन के साथ विवाद पर बोले कांग्रेस नेता – आरएसएस के लोगों को लाठी लेके भेजिए वो बॉर्डर पर सुरक्षा करेंगे

गलवान घाटी (India-China Face-Off in Ladakh) में चीन के सैनिकों ने भारत के 20 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। इसके अलावा कई सैनिक जख्मी भी हुए। इस मामले में अब कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने सीधे आरएसएस पर ह’मला बोला है।

हुसैन दलवई ने पूछा है कि जवानों के पास हथियार क्यों नहीं थे। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि चीन की तरफ किसी भी सैनिक की मौत नहीं हुई है, सिर्फ हमारे जवान मारे गए हैं।  उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि सैनिकों के हाथ में लाठी देकर भेजा गया। क्या वह आरएसएस की शाखा है?

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में हुसैन दलवाई ने कहा कि चीन की तरफ कोई सैनिक नहीं मारा गया है। सिर्फ हमारे 20 जवान शहीद हुए हैं। सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि बिना हथियार के आप हमारे जवानों को कैसे भेज सकते हैं? वे लड़ सकते थे लेकिन उन्हें मौका ही नहीं मिला। उनके पास सिर्फ लाठियां थीं। क्या ये RSS शाखा है? सैनिक को क्यों भेजते हैं? आरएसएस के लोगों को भेजें। वे सीमा की रखवाली करेंगे।

दलवई ने केंद्र सरकार की भारत-चीन मुद्दे को लेकर सर्वदलीय मीटिंग बुलाने के फैसले की सराहना की। दलवई ने कहा कि बहुत अच्छी बात है देर से बोले लेकिन दुरुस्त बोले यकीन में पहले ही लेना चाहिए था। क्या है घटना क्या है उसका पूरी तरह से पता चलना बहुत जरूरी है।
इससे पहले लद्दाख सीमा पर 20 भारतीय सैनिकों की शहादत को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अग्रिम मोर्चे पर सैनिकों के निहत्थे जाने पर सवाल उठाया था। शुक्रवार को राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो चुकी है कि गलवान घाटी में चीन का हमला पूर्व नियोजित था। सरकार सो रही थी और समस्या से इनकार किया। हमारे शहीद जवानों को इसकी कीमत चुकानी पड़ी।
वहीं, आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा। सिंह ने कहा, ‘पहले कहा गया कि हमारे 3 जवान शहीद हुए हैं फिर बताया गया कि 20 जवान शहीद हुए हैं। इसके बाद बताया ​गया कि हमारा कोई जवान चीन के कब्जे में नहीं है, लेकिन कल जानकारी मिली कि 10 जवानों को चीन से छुड़ाया गया है। ऐसे गंभीर मसले पर केंद्र की भाजपा सरकार देश से झूठ क्यों बोल रही है?।

    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE