Home राष्ट्रिय आतंकियों ने जारी किया शहीद औरंगजेब के अपहरण का वीडियो

आतंकियों ने जारी किया शहीद औरंगजेब के अपहरण का वीडियो

255
SHARE

हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों द्वारा शहीद किए गए 44 राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) के जवान औरंगजेब के अपहरण का एक वीडियो जारी हुआ है। जिसमे उन्हे टॉर्चर किया जा रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक ये वीडियो जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले के गुस्सू के जंगलों का है। वीडियो में आतंकी कह रहे है कि उन्होने वसीम शाह नाम के आतंकी की मौत का बदला लेने के लिए उनका अपहरण किया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वीडियो में हुई आतंकियों और शहीद औरंगजेब के बीच बातचीत:

आतंकी- नाम क्या है तेरा?
जवान- औरंगजेब।
आतंकी- बाप का नाम क्या है?
जवान- मोहम्मद हनीफ।
आतंकी- किधर रहते हो?
जवान- पुंछ रहता हूं।
आतंकी- ड्यूटी किधर है?
जवान- शादीमार्ग कैंप, पुलवामा।
आतंकी- किसके साथ, शुक्ला के साथ घूमता है तू?
जवान- हां, मेजर शुक्ला के साथ।
आतंकी- क्या ड्यूटी है तेरी?
जवान- सिपाही, रायफलमैन जो पोस्ट पर ड्यूटी देता है।
आतंकी- शुक्ला का गार्ड भी तू ही है?
जवान- हां।
आतंकी- उसके साथ सेना में तू ही जाता है?
जवान- हां।
आतंकी- मोहम्मद भाई (किसी आतंकी का नाम) के एनकाउंटर में तू ही था?
जवान- कौन वसीम? (पूछते हुए)
आतंकी- हां, मोहम्मद वसीम, तलहा।
जवान- हां, मैं ही था।
इसके बाद वीडियो में एक कट है। फिर आगे वीडियो चलता है।
आतंकी- तो तलहा लोगों का एनकाउंटर तूने किया है?
जवान- हां।
आतंकी- उनकी लाश को तूने ही बिगाड़ा था, जिस्म को?
जवान- नहीं।
आतंकी- तो किसने किया?
जवान- मेरे हाथ में लग गई थी इसलिए मैं वहां नहीं गया था।
आतंकी- क्या हो गया था।
जवान- मेरे हाथ का अंगूठा टूट गया था।
आतंकी- उनकी लाश को खराब किसने किया?
जवान- वो फायरिंग में हुआ था।
आतंकी- वो फायरिंग का तो नहीं लग रहा था।
जवान- नहीं, वो फायरिंग में ही हुआ है। वो फायर से ही हुआ है।

बता दें कि ईद की छुट्टी मनाने घर जा रहे औरंगजेब को आतंकवादियों ने गुरुवार दोपहर को अगवा किया था। देर रात गोलियों से छलनी जवान का शव पुलवामा जिले के गुस्सू इलाके में मिला। उनके सिर, चेहरे और गर्दन पर गोलियों के निशान मिले। औरंगजेब 4-जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फेंटरी के शादीमार्ग (शोपियां) स्थित 44 राष्ट्रीय राइफल में तैनात थे।

सेना से रिटायर औरंगजेब के पिता मोहम्मद हनीफ ने कहा कि उनके बटे ने अपना वादा पूरा किया और अपनी गर्दन कटाकर मेरा बेटा मेरे पास वापस आ गया, लेकिन मेरा एक और बेटा अभी भी भारतीय सेना में है। उन्होने कहा कि आज खुशी का त्यौहार था, जो गम में बदल गया। मेरे बेटे को मौत के घाट उतार दिया गया, जिसका गम मैं अकेला नहीं मना रहा, बल्कि पूरे हिंदुस्तान ये गम मना रहा है।

Loading...