संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कश्मीरी बच्चों को लेकर जताई चिंता, भारत सरकार से किया ये आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने मंगलवार को कहा कि वह जम्मू-कश्मीर में गंभीर उ’ल्लंघन से चिंतित हैं और उन्होंने भारत सरकार से बच्चों के खिलाफ शॉटग’न छर्रों (पेले’ट्स) के इस्तेमाल को समाप्त करने को कहा।

बच्चों पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट 2021 में उन्होंने कहा कि “मैं सरकार से बच्चों की सुरक्षा के लिए निवारक उपाय करने का आह्वान करता हूं, जिसमें बच्चों के खिलाफ छ’र्रों के उपयोग को समाप्त करना, यह सुनिश्चित करना कि बच्चे किसी भी तरह से सुर’क्षा बलों से जुड़े नहीं हैं, और सुरक्षित स्कूल घोषणा और वैंकूवर सिद्धांतों का समर्थन करते हैं।”

संयुक्त राष्ट्र ने भारतीय सुर’क्षा बलों द्वारा चार महीने के लिए सात स्कूलों के उपयोग की पुष्टि की। 2020 के अंत तक स्कूल खाली कर दिए गए थे।” गुटेरेस ने कहा, “मैं बच्चों को हिरा’सत में लिए जाने और उन्हें प्रता’ड़ित करने और स्कूलों के सै’न्य इस्तेमाल से चिंतित हूं।”

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि उन्होंने सभी गंभीर उल्लं’घनों के लिए राष्ट्रीय निवारक और जवाबदेही उपायों को लागू करने के लिए अपने विशेष प्रतिनिधि के साथ सरकार की सकारात्मक भागीदारी का स्वागत किया।

उन्होंने कहा, “मैं (भारत) सरकार से यह सुनिश्चित करने का आग्रह करता हूं कि बच्चों को अंतिम उपाय के रूप में और कम से कम उचित समय के लिए हिरा’सत में लिया जाए और हिरा’सत में सभी प्रकार के दुर्व्यव’हार को रोका जाए।”

गुटेरेस ने कहा, “मैं (भारत) सरकार से किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने का भी आग्रह करता हूं, ताकि अवैध गतिविधियों के लिए बच्चों के उपयोग और हिरा’सत में लिए गए बच्चों की स्थिति को संबोधित किया जा सके।”