यूएई ने चक्रवात तौक्ते के पीड़ितों पर भारत के साथ एकजुटता व्यक्त की

अबू धाबी: संयुक्त अरब अमीरात ने भीषण चक्रवात तौक्ते के पीड़ितों पर भारत के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त की, जिसने देश के कई क्षेत्रों को प्रभावित किया। जिससे कई हताहत भी हुए।

मंगलवार को जारी एक बयान में, संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रालय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मंत्रालय ने घा’यलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए भारत सरकार और इस द’र्दनाक घटना के पीड़ितों के परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की।

तौक्ते तूफ़ान गुजरात में 1988 के बाद आया सबसे शक्तिशाली तूफ़ान है जिससे तटीय क्षेत्रों में भारी तबाही हुई है।  इन इलाक़ों में बिजली के खंभे और पेड़ गिर गए तथा घरों व सड़कों को नुक़सान पहुँचा है। तूफ़ान की वजह से कम-से-कम 33 लोगों के मा’रे जाने की खबर है।

वहीं भारत के मौसम विभाग ने अब एक अन्य चक्रवात ‘यास’ के 26-27 मई को पूर्वी तट पर पहुंचने का अनुमान लगाया  है। मौसम विज्ञान विभाग ने बुधवार को बताया कि उत्तर अंडमान सागर और बंगाल की पूर्वी मध्य खाड़ी में 22 मई को कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है जो इसके बाद के 72 घंटों में चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है।

विभाग के चक्रवात चेतावनी प्रभाग ने बताया कि यह उत्तर पश्चिम की तरफ बढ़ सकता है और 26 मई की शाम तक पश्चिम बंगाल-ओडिशा के तटों तक पहुंच सकता है। जिससे पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असम और मेघालय 25 मई से हल्की से मध्यम स्तर की बारिश हो सकती है। फिर तेज बारिश हो सकती है।