चेन्नई में सीएए के खिलाफ हजारों मुसलमानों ने सचिवालय के बाहर किया प्रदर्शन

चेन्नईतमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में आज नागरिकता संशोधन कानून (सीएए),  राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा प्रदर्शन हुआ है। जिसमे हजारों लोगों ने हिस्सा लिया।

प्रदर्शनकारियों ने तमिलनाडु विधानसभा का घेराव करने के लिए चेन्नई के वलाज रोड से राज्य सचिवालय की ओर मार्च निकाला। प्रदर्शन में कम से कम से 15,000 लोग शामिल होने की बात कही जा रही है। मार्च में कई लोग हाथों में पोस्टर लिए नजर आए। जिसमे विधानसभा में सीएए को लागू नहीं करने को लेकर एक प्रस्ताव पास कर ने की मांग की गई।

प्रदर्शनकारियों ने हाथों में तिरंगा थाम रखा था, साथ ही वहां मौजूद लोगों ने राष्ट्रगान गाया। बता दें कि मद्रास हाई कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों से तमिलनाडु विधानसभा की ओर मार्च नहीं करने को कहा था। हालांकि प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे हैं और विधानसभा की ओर नहीं जाएंगे।

विधानसभा के पास और रैली मार्ग के आसपास किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सुरक्षा बढ़ा दी गई है। वहीं राज्य के अन्य हिस्सों में भी सीएए विरोधी कई रैलियां आयोजित की जा रही हैं। इससे पहले 14 फरवरी को चेन्नई के वाशरमेनपेट में प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज हुआ था।

इधर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री  पलानीस्वामी ने 14 फरवरी को चेन्नई के वाशरमेनपेट में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हुई पुलिस की कार्रवाई का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने बिना इजाजत विरोध प्रदर्शन करने के लिए लोगों को गिरफ्तार किया था और कहा कि सरकार को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग विरोध प्रदर्शनों को उकसा रहे हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE