आप पार्षद ताहिर हुसैन की अग्रिम जमानत पर सुनवाई टली, SIT से मांगा जवाब

दिल्ली हिं*सा में नाम आने के बाद आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन ने दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी लगाई थी। जिस पर बुधवार कोसुनवाई हुई। कोर्ट ने ताहिर की अर्जी पर सुनवाई गुरुवार दोपहर 2 बजे तक के लिए टाल दिया है। साथ ही कोर्ट ने दिल्‍ली हिंसा मामले की जांच के लिए गठित SIT से ताहिर की अर्जी पर जवाब भी मांगा है।

ताहिर हुसैन पर इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) के कर्मचारी अंकित शर्मा की ह*त्या के मामले के आरोप हैं। साथ ही उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में भड़की हिं*सा में ताहिर हुसैन के खिलाफ केस दर्ज है। ताहिर हुसैन के वकील ने पुलिस पर मनमाने तरीके से मामले की जांच करने का आरोप लगाया है। सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष के वकील आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस उनके मुवक्किल का बयान दर्ज नहीं कर रही है।

दूसरी और दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि पुलिस ने कहा- 24-25 फरवरी की रात ताहिर को उनके घर से रेस्क्यू नहीं किया गया था। पुलिस को जानकारी मिली थी कि पार्षद अपने ही घर में फंसे हुए थे। मगर, जांच के बाद पता चला कि वह अपने घर में सुरक्षित हैं।

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने ताहिर को उनके घर से रेस्क्यू नहीं करने की बात कही थी। दिल्ली पुलिस के अतिरक्त आयुक्त अजित कुमार सिंगला ने निलंबित पार्षद को घर से निकालने की बात कही थी। उन्होंने बताया कि उन्हें 24 फरवरी की रात करीब 11 बजे जानकारी मिली कि ताहिर हुसैन अपने घर में फंसे हुए हैं। हमारी टीम घर के बाहर पहुंची, कुछ पुलिसवाले घर के अंदर गए और ताहिर को रिहा कर बाहर ले आये

वहीं ताहिर ने दावा किया था कि वह दं*गे के दौरान पुलिस की मदद से करावल नगर स्थित घर से बाहर निकले थे। इसके बाद दं*गाइयों ने उनके घर पर कब्जा कर लिया था। न्यूज़ 18 इंडिया के साथ बातचीत में ताहिर हुसैन ने कहा था, ‘सोशल मीडिया पर जो वीडियो चल रहा है, उसमें मैंने सिर्फ उन लोगों के लिए डंडा उठाया था, जो मेरे घर की छत पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थे।’

उन्होंने यह भी कहा था कि उन्‍हें सबसे बड़ा डर था कि कोई उनके परिवार को कुछ न कर दे। उनका कहना था कि वीडियो में कुछ लोग नीचे की ओर जा रहे हैं, उन्हें मैंने ही भगाया। उनको भगाने के लिए मैंने डंडा उठाया था।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE