तबरेज खान कोरोना मरीजों को 7वीं बार डोनेट करेंगे प्लाज्मा

कोरोना वायरस महामारी लगातार फ़ेल रही है। लेकीन इसके इलाज के लिए कोई वेक्सीन अब तक मौजूद नहीं है। इस वायरस से लड़ाई में ठीक हो चुके मरीजों का प्लाज्मा बड़ा हथियार है। ऐसे में कई लोग अब कोरोना के मरीजों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं और प्लाज्मा डोनेट कर रहे हैं।

ऐसा ही एक नाम है तबरेज खान। दिल्ली के जहांगीरपुरी के रहने वाले 37 साल के तबरेज अब तक 6 बार प्लाज्मा डोनेट कर चुके हैं। और अब सातवीं बार प्लाज्मा देने जा रहे हैं। मंगलवार को वह सातवीं बार लोकनायक अस्पताल में अपना प्लाज्मा दान करेंगे।

तबरेज ने बताया कि 12 मार्च को वे कोरोना पीड़ित हुए थे। इस दौरान उनकी बहन समेत परिवार के पांच सदस्य भी कोरोना की चपेट में आ गए थे। दरअसल, उनकी 48 वर्षीय बहन समा सऊदी अरब से लौटी थीं। वे कोरोना पीड़ित निकली और उसके बाद उनके परिवार के पांच अन्य सदस्य भी कोरोना पीड़ित हो गए। हालांकि, वह 16 दिन में कोरोना से ठीक हो गए थे। इसके बाद आईएलबीएस में जाकर उन्होंने अपना प्लाज्मा दान किया था।

तबरेज ने बताया कि छह बार प्लाज्मा दान करने से उनके शरीर में कुछ भी असर नहीं हुआ है। वे न सिर्फ शारिरिक रूप से स्वस्थ हैं बल्कि प्लाज्मा देकर ज्यादा खुश भी महसूस करते हैं। उन्होंने कहा कि वह साम्प्रदायिक सौहार्द के लिए काम करना चाहते हैं। चार बार उन्होंने अलग समुदाय के लोगों को प्लाज्मा दान किया है।

हालांकि, कोरोना से ठीक होने के बाद जब वे घर लौटे थे तो उन्हें काफी भेदभाव झेलना पड़ा था, लेकिन उन्होंने बार बार प्लाज्मा दान कर यह साबित कर दिया है कि उनका खून कोरोना के इलाज के लिए कितने काम का है। उन्होंने दिल्ली में ठीक हुए लोगों से भी प्लाज्मा दान करने की अपील की है।

तबरेज ये भी कहते हैं कि मैंने प्लाज्मा देने का फैसला लिया क्योंकि मैं अपने देश के के किसी काम आना खुशकिस्मती समझता हूं। एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते अगर मेडिकल काउंसिल मेरी बॉडी का कोई भी हिस्सा लेकर किसी भी तरह का कोई रिसर्च करना चाहे तो मैं उसके लिए भी तैयार हूं।