अकबर की हत्या का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, 20 अगस्त को होगी सुनवाई

राजस्थान के अलवर में गोरक्षकों द्वारा अकबर की पीट-पीट कर हत्या का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुँच गया है। इस मामले की सुनवाई 20 अगस्त को होगी।

जानकारी के अनुसार, तहसीन पूनावाला की तरफ से दायर की गई याचिका में अलवर मामले को लेकर राजस्थान सरकार पर सर्वोच्च अदालत के निर्देशों का उल्लंघन का आरोप लगा है। पूनावाला ने राजस्थान सरकार के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई की मांग की।

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने लिंचिंग को लेकर कई दिशा निर्देश जारी किए थे, केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देशों का पालन करने को कहा था। बावजूद राजस्थान सरकार ने नियमों का पालन नहीं किया और अकबर को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा।

कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि ”भीड़तंत्र की इन विभत्स गतिविधियों को नई पंरपरा नहीं बनने दिया जा सकता। कोर्ट ने कहा, कानून का शासन कायम रहे इसे सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी सरकार की है। कोई भी नागरिक कानून अपने हाथों में नहीं ले सकता है। सरकार को संविधान के अनुसार काम करना चाहिए और संसद इस मामले पर कानून बनाए। लिंचिंग पीड़ितों को सरकार की तरफ से मुआवजा दिया जाना चाहिए।

इस घटना को लेकर अकबर के भाई इलियास खान ने आज कहा कि हम पुलिस पर कोई संदेह नहीं कर रहे हैं, पर हम न्याय चाहते हैं। हम उन्हें सजा चाहते हैं जिन्होंने उसे मारा। वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अलवर मॉब लिंचिंग के बाद एक न्यूज चैनल द्वारा पूछे गये सवाल के जवाब में कहा है कि केंद्र जल्द इस मामले में एक बैठक कर निर्णय लेगा।

इस घटना में पुलिस की भूमिका पर उठते सवाल के बीच मामले की जांच सीनियर अफ़सर को सौंप दी गयी है। दरअसल पुलिस आरोप है कि अकबर को जान बूझकर अस्पताल देर से ले जाया गया और अस्पताल ले जाने से पहले उसकी पिटाई भी की गई थी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE