SC के आदेश से वकील सगीर अहमद की 25 लाख की मदद अब मृतक मज’दूरों के परिजनों को मिलेगी

मुंबई में रह रहे उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को मुंबई से सुरक्षित उनके घर पहुंचाने के लिए मुंबई के वकील सगीर अहमद खान ने यात्रा खर्च के तौर पर 25 लाख रुपये सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री में जमा करवाए थे। जिससे अब सुप्रीम कोर्ट ने मृतक मजदूरों के परिजनों में बांटने का आदेश दिया है।

मामला मुंबई में फंसे यूपी के संत कबीर नगर के मजदूरों (Migrant Worker) को वापस भेजने से संबंधित है। सुनवाई के दौरान सगीर अहमद खान ने कहा कि मजदूर घर पहुंच गए हैं, इसीलिए मेरे द्वारा जमा करवाए गए रुपये यूपी के उन 5 परिवारों में बांट दिए जाएं, जिनके लोग लौटने के दौरान मर गए थे।

बता दें कि खान ने याचिका दायर कर इसकी इजाज़त चाही थी क्योंकि वो सीएम या पीएम फंड में य राशि नहीं देकर खास तौर पर महाराष्ट्र में अपने गृह जिले के फंसे प्रवासी श्रमिकों को गांव वापस भेजने के लिए अपनी दान राशि का उपयोग चाहते हैं।

बाद में सगीर ने कहा कि मज़दूर घर पहुंच गए हैं इसलिए यह पैसे यूपी के उन 5 परिवारों में बांट दिए जाएं, जिनके लोग लौटने के दौरान मर गए जिसकी सुप्रीम कोर्ट ने इजाज़त दे दी है।

उन्होंने अपनी याचिका में कहा था कि वह प्रधानमंत्री राहत कोष या मुख्यमंत्री कोष में पैसे नहीं डालना चाहते। वह चाहते हैं किउनके पैसे का सीधा इस्तेमाल, मुंबई में फंसे उनके गृह जिला के प्रवासी उन्हें जल्दी से जल्दी घर पहुंचाने में किया जाए।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE