PM मोदी से बोले महाराष्ट्र के बिजली मंत्री – एक साथ बत्तियां बुझा दी गई तो फेल हो सकता है ग्रिड

कोरोना महामारी के बीच थाली बजाने के बाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से अपील की है कि वो इस रविवार (5 अप्रैल) को रात नौ बजे घर की बालकनी में दीया जलाने की अपील की है। इस पर महाराष्ट्र के बिजली मंत्री डॉ. नितिन राऊत ने प्रधानमंत्री से दोबारा विचार करने को कहा है।

नितिन राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव पर कहा है कि यदि देश में सभी लाइटों को एक साथ बंद कर दिया गया तो इससे ग्रिड फेल हो सकता है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक नितिन राउत ने कहा ऐसी स्थिति में सभी आपात सेवाएं भी बंद हो जाएंगी और इसे ठीक करने में एक सप्ताह तक का समय लग सकता है।

उन्होने कहा, सभी लाइटें एक साथ बंद होने से डिमांड और सप्लाई में भारी अंतर को वजह से फ्रीक्वेंसी में असर पड़ेगा, क्योंकि वर्तमान में राज्य में बिजली की डिमांड 23 हजार मेगावाट से घटकर 13 हजार पर आ चुकी है। ऐसा उद्योगों के बंद होने से हुआ है। एक साथ सभी लाइटें बंद होने से ग्रिड पर असर पड़ने से पावर स्टेशन बंद हो सकते हैं।

उन्होंने कहा, ”पॉवर स्टेशन बंद हुए तो उसका सीधा असर इमरजेंसी सेवाओं मतलब अस्पताल में ईलाज हो रहे मरीजों पर भी पड़ सकता है. उसे ठीक कर पूर्वरत लाने में 12 से 16 घंटे लग सकते हैं। इसलिए बिजली मिलती रहे इसके लिए जरूरी है कि सभी एक साथ लाइटें ना बुझाए। क्योंकि कोरोना के खिलाफ जारी जंग में बिजली बहुत ही अहम हथियार है। डॉ. नितिन राउत ने जनता से भी अनुरोध किया है कि बिजली पर नियंत्रण बनाये रखने में प्रशासन का सहयोग करे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो संदेश जारी कर देश के सभी लोगों से पांच अप्रैल की रात नौ बजे नौ मिनट तक दिया या मोमबत्ती जलाने की अपील की है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि इस दौरान लोग बिजली की बत्तियां बुझा दें।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE