शरजील इमाम ने निचली कोर्ट के आदेश के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में दायर की याचिका

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के पूर्व छात्र शरजील इमाम ने सोमवार को दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर कर निचली अदालत के उस आदेश को चुनौती दी है। जिसमें इस मामले की जांच करने और चार्जशीट फाइल करने के लिए और तीन महीने का समय दिया है।

शरजील इमाम ने अदालत से इस मामले में निर्धारित 90 दिन की समय सीमा के अंदर जांच नहीं पूरी होने पर जमानत दिये जाने का भी अनुरोध किया। निचली अदालत ने हाल में उसकी याचिका खारिज कर दी थी। बता दें कि भड़काऊ भाषण और देशद्रोह के आरोपित शरजील इमाम के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने यूपीए में भी मामला दर्ज किया है।

आरोप है कि शरजील इमाम शातिर तरीके से एक विशेष समुदाय के लोगों को भड़काने का काम कर रहा था और उसकी मंशा राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और नागरिकता संशोधन के विरोध की आड़ में समुदाय प्रदाय का बड़ा नेता बनने की थी।पुलिस के मुताबिक वह कट्टर सोच रखने वाले कई लोगों से सोशल मीडिया और वाट्सएप से जुड़ा था। इसके अलावा कट्टर सोच को बढ़ावा देने वाले विवादित पोस्टर जामिया नगर सहित मस्जिदों इत्यादि स्थानों पर बंटवाए थे।

शरजील इमाम को नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन के दौरान बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था। शरजील इमाम के खिलाफ 5 राज्यों में देशद्रोह का मामला दर्ज किया जा चुका है।


‘जयपुर में साधू की चिलम से कोरोना फैलने की खबर फ़ैक्ट चेक में निकली गलत’

बीते दिनों पत्रिका न्यूज़ पेपर के हवाले से प्रकाशित की गई खबर जयपुर में साधू के एक चिलम से 300 लोग हुए कोरोना पॉजिटिव, मचा बवालफ़ैक्ट चेक में गलत पाई गई है। जिसको लेकर खेद है। प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) ने भी खबर का खंडन किया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE