शाही इमाम बुखारी ने जामा मस्जिद में मरम्मत के लिए पीएम मोदी को लिखा पत्र

दिल्ली की  मुगलकालीन एतिहासिक इमारत जामा मस्जिद की मरम्मत को लेकर शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) को लिखे पत्र में उन्होने बताया कि बीते दिनों आई आधी और तेज हवाओं से मस्जिद के दक्षिण में स्थित मीनार का एक बड़ा पत्थर निकल कर गिर गया। हालांकि भीड़ न होने की वजह से इस दौरान कोई हादसा पेश नहीं आया। दरअसल कोरोना के कारण मस्जिद में आम लोगों को नमाज की इजाजत नहीं है।

उन्होने कहा कि इन पत्थरों के गिरने से मीनार में आसपास के पत्थरों की मजबूती कमजोर हो गई है और किसी हादसे से बचने के लिए फौरन मरम्मत की जरूरत है।” बुखारी ने कहा, ”पहले भी इस तरह के हादसे सामने आ चुके हैं और उसके बाद एएसआई ने मरम्मत का काम किया है।”

उन्होंने कहा कि मस्जिद की मरम्मत के लिए स्थायी बजट नहीं होने की वजह से मस्जिद में मरम्मत का काम होने में वक्त लगता है और इसके लिए पत्र लिखना पड़ता है जिसके बाद अनुमान बनता है, बजट मंजूर होता है और फिर काम शुरू होता है।

बुखारी ने कहा, “ मस्जिद में कुछ जगह के पत्थर इतने खराब हो गए हैं कि हमने उन्हें रस्सियों से बांधकर रोका हुआ है। इसलिए मैंने प्रधानमंत्री को खत लिखा है कि इंजीनियर पूरी इमारत का मुआयना करें और जो बहुत ज्यादा जरूरी है उसकी मरम्मत का काम फौरन किया जाए।”

पत्र के मुताबिक, विशेष मामले के तौर पर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण 1956 से मस्जिद में मरम्मत का काम कराता आया है। हालांकि मुगल काल की इमारत एएसआई-संरक्षित साइट नहीं है और इसके प्रबंधन और रखरखाव की जिम्मेदारी दिल्ली वक्फ बोर्ड (डीडब्ल्यूबी) के पास है।