सीएए विरोध: दो महीने में पहली बार खुली शाहीन बाग की नोएडा जाने वाली सड़क

पिछले 70 दिनों से संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ बंद शाहीन बाग का एक रास्ता शनिवार शाम को प्रदर्शनकारियों ने खोल दिया। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों से चर्चा के बाद प्रदर्शन स्थल के पास 9 नंबर की सड़क खोली गई।

एबीपी न्यूज के मुताबिक कालिंदी कुंज 9 नंबर सड़क के सामने से  प्रदर्शनकारियों ने बैरिकेडिंग हटा दी। यह रास्ता नोएडा से फरीदाबाद की तरफ जाता है। हालांकि जानकारों का कहना है कि इस रोड के खुल जाने से जामिया से नोएडा और नोएडा से जामिया जाने वाले लोगों को कोई राहत नहीं मिलेगी। क्योंकि अब भी महामाया फ्लाइओवर पर रास्ता बंद है। यह रास्ता यूपी पुलिस और दिल्ली पुलिस ने बंद किया हुआ है।

वहीं सुप्रीम कोर्ट द्वारा शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन पर बातचीत के लिए नियुक्त किए गए वार्ताकारों और प्रदर्शनकारियों के बीच चौथे दिन भी सहमति नहीं बन पायी। शनिवार को वार्ताकार साधना रामचंद्रन फिर से शाहीन बाग पहुंची। जहां प्रदर्शनकारियों ने कई मांगें उनके सामने रखीं, लेकिन बातचीत आखिर में बेनतीजा रही।

शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त मध्यस्थता पैनल में शामिल वार्ताकार साधना रामचंद्रन ने कहा है कि हम यहां शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन को खत्म कराने के लिए नहीं आए हैं, हम सिर्फ यहां रास्ता खुलवाने के लिए आए हैं।

वहीं प्रदर्शनकारियों की मांग है कि सुप्रीम कोर्ट सुरक्षा पर एक आदेश जारी करे। प्रदर्शनकारी ये भी चाहते हैं कि शाहीन बाग और जामिया के लोगों के खिलाफ मुकदमे वापस लिए जाएं। शाहीन बाग में एक दादी ने कहा कि जब CAA वापस लेंगे तो रोड खाली होगा नहीं तो नहीं होगा। एक दूसरी महिला ने कहा कि अगर आधी सड़क खुलती है तो सुरक्षा और अलुमिनियम शीट चाहिए।

इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने कहा कि स्मृति ईरानी ने हम (प्रदर्शनकारी महिलाओं) पर टिप्पणी की कि ‘शाहीन बाग की महिलाएं बातचीत के लायक नहीं हैं।’ जिन लोगों ने शाहीन बाग के खिलाफ गलत बोला है उनके खिलाफ कार्रवाई हो।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE