No menu items!
41.1 C
New Delhi
Monday, May 16, 2022

इंडिगो के सात पायलट की खैर नहीं, सैलरी को लेकर आपत्तिजनक भाषा में कोस रहे थे एयरलाइन को, अनजाने में कर गए इमरजेंसी फ्रीक्वेंसी का इस्तेमाल

अक्सर ऐसा होता है कि इंप्लाइज अपनी सैलरी से खुश नहीं होते हैं जिसके चलते वो जिस कंपनी में काम करते हैं उसको कुछ ना कुछ कहते रहते हैं और कोसते रहते हैं लेकिन अगर आप यह सोचे कि आप जिस कंपनी के बारे में अपने दोस्तों से बात कर रहे हो अगर उसी कंपनी के लोगही सुन ले तो क्या हो, तो बस और क्या है आपकी तो जॉब जानी जानी है।

ऐसा ही एक मामला सामने आया है इंडिया में इंडिगो फ्लाइट का जिसमें कुछ पायलट आपस में सैलरी को लेकर के इंडिगो कंपनी को कोस रहे थे लेकिन उनको यह खबर नहीं थी कि वो इमरजेंसी फ्रीक्वेंसी पर बात कर रहे हैं और उनकी बात सुनी जा रही है ये पायलट आपत्तिजनक भाषा में सैलरी को लेकर बातें कर रहे थे और कंपनी को बुरा भला कह रहे थे जिसके बाद इन पायलट पर गाज गिरी है।

भारतीय एरलाइन कंपनी इंडिगो के कम से कम सात पायलट इमरजेंसी फ्रिक्वेंसी पर सैलरी से जुड़े मुद्दों परआपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हुए बात करते हुए पाय गए है । इन पर अब कार्यवाही होगी पायलटो को कम वेतन के मुद्दे पर 121.5 मेगाहर्ट्ज फ्रीक्वेंसी पर आपत्तिजनक भाषा में अपना गुस्सा जाहिर करते हुए पाया गया था।

दरअसल इस ‘फ्रीक्वेंसी’ का उपयोग विमान के मुसीबत में होने पर इमरजेंसी कम्यूनिकेशन के लिए किया जाता है। रिपोर्ट्स के अनुसार विमानन महानिदेशालय यानी (DGCA) ने मामले की जांच शुरू कर दी है हालाँकि अभी इंडिगो का इस पर कोई बयान नहीं जारी हुआ है।

वही जबकि विभिन्न विमानों के पायलट के बीच हवाई क्षेत्र में संचार के लिए ‘123.45 मेगाहर्ट्ज फ्रीक्वेंसी’ का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी निगरानी नहीं की जाती है। इस घटना के कुछ दिन पहले ही वेतन में कटौती के चलते कुछ पायलट हड़ताल पर जा रहे थे जिन्हे निलंबित कर दिया गया था। कोविद के दौरान पायलटों के वेतन में 30 प्रतिशत तक की कटौती की थी

 

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
3,308FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts