SC ने NEET-JEE परीक्षा पर स्थगित करने से किया इंकार, कहा – साल बर्बाद नहीं कर सकते

NEET और JEE परीक्षा को स्थगित करने की मांग करने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया। याचिका में कोरोना के मद्देनजर परीक्षा टालने की मांग की गई थी।

याचिका खारिज करते हुए पीठ ने कहा क्या देश में सब कुछ रोक दिया जाए? एक कीमती साल को यूं ही बर्बाद हो जाने दिया जाए? मामले की सुनवाई जस्टिस अरुण मिश्रा की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच कर रही है। अब JEE (मेन) की परीक्षा 1 से 6 सितंबर के बीच और NEET परीक्षा 13 सितंबर को होनी है।

11 राज्यों के 11 छात्रों ने देश में तेजी से बढ़ रहे कोविड-19 महामारी के मामलों की संख्या के मद्देनजर जेईई मेन और नीट यूजी परीक्षाएं स्थगित करने के अनुरोध के साथ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर हुई थी। याचिका में कोरोना वायरस महामारी का जिक्र करते हुए राष्ट्रीय परीक्षा एजेन्सी (एनटीए) की तीन जुलाई की नोटिस रद्द करने का अनुरोध किया गया था।

इस नोटिस के माध्यम से ही एनटीए ने संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मुख्य, अप्रैल, 2020 और राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट-यूजी) सितंबर में कराने का निर्णय लिया है। याचिका में प्राधिकारियों को सामान्य स्थिति बहाल होने के बाद ही इन परीक्षाओं को आयोजित करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया था।

इस दौरान NTA ने दावा किया है कि उसने छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या लगभग दोगुना बढ़ा दी है। इसके चलते छात्रों को एक जगह भीड़ नहीं लगानी पड़ेगी और क्‍लास में भी सोशल डिस्‍टेंसिंग रखी जा सकेगी। 9 लाख से अधिक ने JEE Main के लिए उपस्थित होने के लिए आवेदन किया था, जबकि लगभग 16 लाख छात्रों ने NEET परीक्षा के लिए रजिस्‍ट्रेशन किया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE