No menu items!
21.1 C
New Delhi
Wednesday, October 27, 2021

एलोपैथी के खिलाफ बयान को लेकर दर्ज हुई एफआईआर पर रामदेव ने ली सुप्रीम कोर्ट की शरण

योग गुरु रामदेव ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाकर को’विड-19 के उपचार में एलोपैथी के खिलाफ कथित टिप्पणी को लेकर विभिन्न राज्यों में उनके खिलाफ दर्ज कई मामलों की कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की।

रामदेव ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) पटना और रायपुर यूनिट द्वारा दर्ज कराई गई एफ़आईआर को लेकर दंडात्मक कार्रवाई से सुरक्षा की मांग की है। उन्होंने एफ़आईआर को एक साथ करने और कार्यवाही पर रोक लगाने की भी मांग की है।

रामदेव के खिलाफ भारतीय दंड की धारा 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश की अवज्ञा), 269 (जीवन के लिए खत’रनाक बीमारी के संक्रमण को फैलाने की लापरवाही से काम करने की संभावना), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान) और आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के अन्य प्रावधान के तहत मामला दर्ज किया गया।

एक वीडियो में, रामदेव को कथित तौर पर यह कहते हुए सुना गया था, “एलोपैथी एक बेवकूफ विज्ञान है और दवाएं जैसे रेमेडिसविर, फैबीफ्लू, और भारत के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल द्वारा अनुमोदित अन्य दवाएं CO’VID-19 रोगियों के इलाज में विफल रही हैं।”

16 जून को, छत्तीसगढ़ के रायपुर में पुलिस ने रायपुर की IMA यूनिट द्वारा रामदेव के खिलाफ CO’VID-19 के इलाज के लिए चिकित्सा बिरादरी द्वारा उपयोग की जा रही दवाओं के बारे में “झूठी” जानकारी फैलाने के लिए दायर एक शिकायत के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,994FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts