गर्भवती हथिनी ने गलती से खाया था पटाखा से भरा फल: मोदी सरकार

पर्यावरण मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि केरल में गर्भवती हथिनी की मौ’त की प्राथमिक जांच में पाया गया है कि उसने गलती से एक पटाखा से भरा फल खा लिया हो सकता है।

मंत्रालय ने यह भी नोट किया कि कई बार स्थानीय लोग जंगली सूअर को बागान के खेतों में प्रवेश करने से रोकने के लिए विस्फो’टक से भरे फल लगाने के अवैध कार्य का सहारा लेते हैं। 15 साल की हथिनी ने शक्तिशाली पटाखे से भरे अनानास का सेवन किया जो के जंगल में उसके मुंह में फट गया। एक सप्ताह बाद 27 मई को वेल्लियार नदी में उसकी मौ’त हो गई।

मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा है कि मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। मंत्रालय ने कहा, “प्राथमिक जांच में पता चला है कि हथिनी  ने गलती से इस तरह के फल खाए होंगे। मंत्रालय ने केरल सरकार के साथ लगातार संपर्क में है और उन्हें दोषियों की तत्काल गिरफ्तारी के लिए विस्तृत सलाह दी है और गलत अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है जिसके कारण हथिनी की मौ’त हुई है।”

पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने लोगों से सोशल मीडिया “अफवाहों” पर विश्वास न करने का अनुरोध किया है। मंत्रालय ने रविवार को मामले में प्रगति पर चर्चा के लिए कई अधिकारियों के साथ बैठक की।

संजय कुमार, वन महानिदेशक और मंत्रालय में विशेष सचिव (DGF & SS) की अध्यक्षता में बैठक हुई। डीजीएफ और एसएस के अलावा, बैठक में राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) के एक अधिकारी, वन्यजीव महानिरीक्षक, पर्यावरण मंत्रालय, वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो के अतिरिक्त निदेशक और एलिफेंट सेल के वैज्ञानिकों ने भाग लिया।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE