Home राष्ट्रिय फेक न्‍यूज फैलाने के लिए बीजेपी आईटी सेल में है 20 हजार...

फेक न्‍यूज फैलाने के लिए बीजेपी आईटी सेल में है 20 हजार लोग: पूर्व सदस्‍य

190
SHARE

बीजेपी आईटी सेल के एक कथित पूर्व सदस्य महावीर ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि पार्टी ने फेक न्‍यूज के लिए कुल 150 लोगों की टीम गठित की हुई है. जो हर दिन ट्विटर से लेकर फेसबुक आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए कंटेंट तैयार करती है.

इसके अलावा इस इस कंटेंट को फैलाने के लिए 20 हजार से अधिक लोगों को लगा रखा है. ये लोग जिला और तहसील स्तर तक जुड़े हुए है. यूट्यूबर ध्रुव राठी को दिए इंटरव्यू में महावीर ने ये खुलासा किया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

महावीर का दावा है कि वह 2012 से 2015 तक बीजेपी आईटी सेल का मेंबर रह चूका है. महावीर ने कहा कि आईटी सेल में सुपर 150 लोग हैं, जो किसी भी मुद्दे पर कंटेंट तैयार करते हैं. इसके बाद पचास और लोग होते हैं. जो कंटेंट को नीचे तक फारवर्ड करते हैं. सुपर 150 लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का मौका मिल चुका है.

ध्रुव राठी के मुताबिक इसमें तेजिंदर सिंह बग्गा, अंकित जैन, सुरेश जैसे लोग सुपर 150 में शामिल हैं. महावीर ने बताया कि उनका काम फेसबुक पर ज्यादा से ज्यादा ट्रोलिंग करना था. जो लोग बीजेपी के खिलाफ लिखते मिलें, उसकी फेसबुक को रिपोर्टिंग कर पेज या अकाउंट बंद करा देना.

बीजेपी आईटी सेल में काम करने वाले हर सदस्य को लैपटॉप के साथ 10-10 मोबाइल मिलता है, किसी मुद्दे पर कम से कम 50 ट्वीट करना होता है. एक ही साथ हर मोबाइल से पांच-पांच ट्वीट मेंबर करते हैं. एक साथ दो हजार लोग भी जब कोई मैसेज ट्वीट करते हैं तो वह खुद ट्रेडिंग में आ जाते हैं. सुपर 150 टीम जो कंटेंट मुहैया कराती है, बाकी मेंबर्स को उसे कॉपी-पेस्ट कर फेसबुक से लेकर ट्विटर पर वायरल करना होता है.

इंटरव्यू में महावीर ने बताया कि बीजेपी आईटी सेल ने भारतीय सेना से लेकर देश के तमाम महापुरुषों के फर्जी पेज बनाए हैं. जिस पर 20 से तीस लाख फॉलोवर्स हैं, इस पेज के जरिए लोगों की भावनाएं भड़काने वाली पोस्ट की जाती हैं. हर चीज में हिंदू-मुस्लिम एंगल खोजकर पोस्ट की जाती है. जिससे आम जन की भावनाएं भड़कें. कुछ प्रोपोगंडा वेबसाइट्स भी बीजेपी आईटी सेल की ओर संचालित होती हैं. उनकी खबरें हर प्लेटफॉर्म पर वायरल किए जाने से गूगल पर रैकिंग भी अच्छी-खासी है.

Loading...