मुस्लिम शख्स के गेटअप में पुलिस कमिश्नर ने किया थानों का दौरा, नकली पत्नी को भी बनाया बेगम

पुलिस थानों की कार्यप्रणाली का पता लगाने के लिए पुणे से सटे पिंपरी चिंचवड शहर के आयुक्त कृष्णप्रकाश और एसीपी प्रेरणा कट्टे ने मुस्लिम पति और पत्नी का रूप धारण कर अलग-अलग थानों का दौरा किया। दोनों ने रमजान के महीने को ध्यान में रखते हुए मुस्लिम पति-पत्नी का रूप धारण किया।

सबसे पहले वे पिपरी थाने में कोरोना के मरीज बनकर गये और वहां मौजूद पुलिसकर्मी से शिकायत की कि वे अस्पताल जाना चाह रहे थे लेकिन एम्ब्यूलेंस ड्राइवर ने अधिक पैसे मांगे। इसके जवाब में ड्युटी पर मौजूद पुलिसकर्मी ने मदद करने से इंकार कर दिया और जिम्मेदारी नगर निगम पर डाल दी। बाद में जब उन्होंने अपनी असली पहचान दिखाई तो उसे कर्मचारी के होश उड़ गये।

उसके बाद वे हिंजेवाड़ी थाने गए। जहांउन्होंने शिकायत की कि उनके सोने की चैन चोरी हो गई है। उनकी बात सुनकर तुरंत ही ड्युटी पर मौजूद पुलिसकर्मी ने शिकायत दर्ज करनी शुरु कर दी। पुलिस कमिश्नर ने अपनी पहचान उजागर की और पुलिसकर्मी की तारीफ की।

उनका तीसरा दौरा वाखड पुलिस थाने का हुआ। जहां उन्होने रात के समय उनके इलाके में लोग आतिशबाजी करने वालों की शिकायत की। उन्होने कहा कि उन्हे रात में सोने में दिक्कत होती है और सुबह समय पर उठ नहीं पाते। इस पर ड्युटी पर मौजूद पुलिसकर्मी ने तुरंत इलाके के साथ अधिकारी को फोन पर सूचना दी और तत्काल एक्शन लेने को कहा।

पुलिस कमिश्नर का कहना है की वो एक आम जनता की तरह पुलिस स्टेशनों में जा कर यह जानना चाहते थे कि पुलिस स्टेशनों में कोरोना के नियमों का पालन सही से हो रहा है या नहीं। पिंपरी चिंचबड़ के एक पुलिस स्टेशन में सीपी कृष्ण प्रकाश ने देखा की एक ही लॉकअप में 9 आरोपियों को बंद रखा गया है, जिसके बाद सीपी ने जांच के आदेश दे दिए है।